मिलके चलेंगे मेले भाई
जाना नहीं अकेले भाई

धेले की पालिश मंगवाओ
कटा फटा जूता चमकाओ

बाइसिकल रस्सी से बाँधो
टोपी पर तमग़ा चिपकाओ

मुँह को बस पानी से चुपड़ो
साबुन को मत हाथ लगाओ

सुई नहीं तो गोंद तो होगा
कुर्ते के फटने पे न जाओ

हाथ से टेढ़ी माँग निकालो
आईना क्यों देखो आओ

मिलके चलेंगे मेले भाई
जाना नहीं अकेले भाई!

Previous articleमहाभारत के बाद
Next articleयुगल स्वप्न
इब्ने इंशा
इब्न-ए-इंशा एक पाकिस्तानी उर्दू कवि, व्यंगकार, यात्रा लेखक और समाचार पत्र स्तंभकार थे। उनकी कविता के साथ, उन्हें उर्दू के सबसे अच्छे व्यंगकारों में से एक माना जाता था।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here