मेरा ईश्वर छली नहीं है

पता नहीं कितने तरीके
ईजाद किए हैं मनुष्य ने
तुम्हें समृद्ध बनाने के लिए।

हर कोस पर तुम्हारा
स्वरूप बदला है
पानी के साथ
पर स्मरण रहे
तुम्हारे ईश्वर ने
तुम्हारी आत्मा
को उतना ही छला है
जितना अँधेरा छलता है
रोशनी को।

छली हुई भाषा परिष्कृत नहीं होती
बस असभ्यता की मोहर का ठप्पा
लिए एक ज़ुबान से दूसरी ज़ुबान
पर स्थानांतरित होती रहती है।

सुनो मेरी भाषा,
यदि कभी मेरा लहजा असभ्य हो
तो तुम मेरे ईश्वर तक मत पहुँचना।
क्योंकि
मेरा ईश्वर तुम्हारे
ईश्वर सा छली नहीं है।

यह भी पढ़ें:

जोशना बैनर्जी आडवानी की कविता ‘मज़दूर ईश्वर’
निशांत उपाध्याय की कविता ‘प्रेम ईश्वर’
अनुराधा सिंह की कविता ‘ईश्वर नहीं नींद चाहिए’
वंदना कपिल की कविता ‘ईश्वर से अनुबंध है प्रेम का’