तुम्हारी याद

कल जो अपनी यादों की अलमारी झाड़ रहा था, एक कोने में तुम्हारी याद मिल गयी। जैसे शांत समुन्दर में अचानक उफ़ान आया हो,...

तुम मिलो मुझे

तुम मिलो मुझे समंदर की गीली रेत पर बनाते अपने पैरों के निशाँ... मैं मिलूंगा तुम्हें समंदर की उसी गीली रेत पर बनाते तुम्हारे पैरों पे अपने...

रास्ते और मेरा सफर

मैं खुद को ही मंजिल मानकर चलता रहा अनजानी राहों पर, कुछ देर चलने के बाद मैं पीछे मुड़कर देखता हूँ तो गहरा शून्य...

घर में घर का निशाँ ढूँढता हूँ।

छत तो है बस मकाँ ढूँढता हूँ घर में घर का निशाँ ढूँढता हूँ। जमीं पे सबका हक़ है अपना अपना अब तो रहने को आसमाँ ढूँढता...

कैसे करूँ

हर मौसम तेरी यादों का मौसम लगता है मैं तुझसे बचना चाहूँ भी तो कैसे तन्हाइयों में भी हरदम हमराह तू ही होता है तेरे साये से...

मोहब्बत देखूं

तेरी याद में मैं खुद को बिखरा इस तरह देखूँ पतझड़ में पेड़ की पत्ती का पेड़ से विरह देखूं ।। आ दौड़ के और भर...

ज़ीस्त ये कैसी जंजाल में है

ज़ीस्त ये कैसी जंजाल में है चलना इसे हर हाल में है माज़ी के पीछे चलने वाले हाल तेरा किस हाल में है जवाब छोड़ तो आये हो...

अँधेरा

आदत हो गयी है मुझको, अब तो अंधरे में रहने की बुझा देता हूँ चराग, डर लगने लगा अब तो उजाले से निकल आता है खुर्शीद...

आगोश

ज़र प्रेम के बाद तुम्हारे आगोश में सिमटकर मासूमियत से सो जाना , जैसे किसी प्रेम पगी कविता की असाधारण अन्तिम पँक्ति लिखना।- निधि...

दो दुनिया का फासला

"सुबह के पौने ग्यारह बजे रोड-रैश खेलते हुए आता विक्रम ऑटो पकड़ती हूँ और ड्राइवर सीट के पिछले हिस्से से सटी सीट पर टिक जाती हूँ।  टिकना यहाँ उपयुक्त शब्द है क्योंकि ग़ाज़ियाबाद के ऑटो में 'बैठने' की लक्ज़री तो किस्मत वालों को मिलती है। बहरहाल, आधा ध्यान घड़ी की सुई पर है और आधा सामने लगे लाल-हरी चोली का एक सिरा मुँह में दबाये लड़की के चित्र पर। नीचे लिखा है - 'सिर्फ तुम'।"

मदहोशी

चलते चलते मुझे लगा कि मैं गलत आ गया हूँ एक व्यक्ति से रास्ता पूछा उसने कोई तवज्जो नहीं दी पास में ही शराब की दुकान थी एक सज्जन...

STAY CONNECTED

38,332FansLike
19,561FollowersFollow
27,541FollowersFollow
1,620SubscribersSubscribe

RECENT POSTS

Fair, Horse Ride, Toy

मेला

1 हर बार उस बड़ी चरखी पर जाता हूँ जो पेट में छुपी हुई मुस्कान चेहरे तक लाती है कई लोग साल-भर में इतना नहीं हँसते जितना खिलखिला लेते हैं...
Man holding train handle

आधुनिकता

मैं इक्कीसवीं सदी की आधुनिक सभ्यता का आदमी हूँ जो बर्बरता और जंगल पीछे छोड़ आया हैमैं सभ्य समाज में बेचता हूँ अपना सस्ता श्रम और दो वक़्त की...
Justyna Bargielska

यूस्टीना बारगिल्स्का की कविताएँ

1977 में जन्मीं, पोलिश कवयित्री व उपन्यासकार यूस्टीना बारगिल्स्का (Justyna Bargielska) के अब तक सात कविता संग्रह प्रकाशित हो चुके हैं और उन्हें दो...
Saadat Hasan Manto

ख़ुशिया

ख़ुशिया सोच रहा था।बनवारी से काले तम्बाकूवाला पान लेकर वह उसकी दुकान के साथ लगे उस संगीन चबूतरे पर बैठा था जो दिन के...
Naresh Mehta

घर की ओर

वह— जिसकी पीठ हमारी ओर है अपने घर की ओर मुँह किये जा रहा है जाने दो उसे अपने घर।हमारी ओर उसकी पीठ— ठीक ही तो है मुँह यदि होता तो...
Upma Richa

या देवी

1सृष्टि की अतल आँखों में फिर उतरा है शक्ति का अनंत राग धूम्र गंध के आवक स्वप्न रचती फिर लौट आयी है देवी रंग और ध्वनि का निरंजन...
Chen Kun Lun

चेन कुन लुन की कविताएँ

चेन कुन लुन का जन्म दक्षिणी ताइवान के काओशोंग शहर में सन 1952 में हुआ। वह एक सुधी सम्पादक रहे हैं। चेन लिटरेरी ताइवान...
Bharat Ke Pradhanmantri - Rasheed Kidwai

किताब अंश: भारत के प्रधानमंत्री

सुपरिचित पत्रकार और राजनीतिक विश्लेषक रशीद किदवई की किताब 'भारत के प्रधानमंत्री : देश, दशा, दिशा' भारत के पहले प्रधानमंत्री से लेकर वर्तमान प्रधानमंत्री...
Muktibodh - Premchand

मेरी माँ ने मुझे प्रेमचन्द का भक्त बनाया

एक छाया-चित्र है। प्रेमचन्द और प्रसाद दोनों खड़े हैं। प्रसाद गम्भीर सस्मित। प्रेमचन्द के होंठों पर अस्फुट हास्य। विभिन्न विचित्र प्रकृति के दो धुरन्धर...
Manish Kumar Yadav

लगभग विशेषण हो चुका शासक

किसी अटपटी भाषा में दिए जा रहे हैं हत्याओं के लिए तर्क'एक अहिंसा है जिसका सिक्का लिए गांधीजी हर शहर में खड़े हैं लेकिन जब भी सिक्का उछालते...
कॉपी नहीं, शेयर करें! ;-)