मुकरियाँ

‘Hindi Mukriyan’ by Bhupendra Singh Khidia

रात पड़े ही दरस दिखावै।
भोर चढ़े परदेश सिधावै॥
छुप कर खावै भोजन नोच।
ए सखि साजन, नहिं ‘कॉकरोच’॥

काले कुन्तल के छत्तरों से।
नाद उठा उतरे जोरों से॥
दिन देखे नहीं देखे रात।
ए सखि साजन, नहिं ‘बरसात’॥

झूठा-झूठा वचन सुनावै।
बात पुरानी भूल ही जावै॥
दो पल को ही वांकों प्यार।
ए सखि साजन, नहिं ‘सरकार’॥

प्रीत को छल कर अंग लगावै।
नेह चुरावै फिर उड़ि जावै॥
फिर दूजै की आतम चक्खी।
ए सखि साजन, नहिं ‘मधुमक्खी’॥

सबकी करे गजब मनुहार।
बार-बार अरुँ बारम्बार॥
कहे घर मौरे आओ राजा।
ए सखि साजन, नहीं ‘दरवाजा’॥

पास रहे हृदय के हरदम।
मान बढ़ावै करे नहीं कम॥
गर्दन से लिपटे ये ताला।
ए सखि साजन, नहिं ‘गलमाला’॥

चार-चार को प्रेम बढ़ावै।
चार-चार आपस हिं लड़ावै॥
उल्टे-सीधे भर दिए कान।
ए सखि साजन, नहिं ‘भगवान’॥

भेद-भेद कर ना पहचाने।
सबको एक सरीखा माने॥
इसमें नहीं कोई संशय।
ए सखि साजन, नहिं ‘विधालय’॥

छाती चौड़ी कर के घूमें।
फँसा हुआ है चक्करव्यूह में॥
कठिनाई से भरता पेट।
ए सखि साजन, नहिं ‘लिटरेट’॥

इक पल भी बिन रहा न जाए।
पल में क्या-क्या ना दिखलाए॥
अब तो जरूरी, का करें साईं?
ए सखि साजन, नहिं ‘वाईफाई’॥

यह भी पढ़ें: ‘नये ज़माने की मुकरी’

Recommended Book: