नामुराद औरत

‘Namurad Aurat’, a poem by Asad Zaidi

नामुराद औरत
रोटी जला देती है

बीस साल पहले किसी ने
इसकी लुटिया डुबो दी थी
प्यार में

नामुराद औरत के पास
उस वक़्त
दो जोड़ी कपड़े थे

नामुराद औरत भूल गई थी
दुपट्टा ओढ़ने का सलीक़ा
नामुराद औरत की
फटी थी घुटनों पर से शलवार

इतने बरस बीत गए
बेशरम उतनी ही है
बेशऊर उतनी ही है

अब तो देखो इसकी
एक आँख भी जा रही है!

यह भी पढ़ें:

विशाल अंधारे की कविता ‘वो दूसरी औरत’
अमर दलपुरा की कविता ‘किरण की तरह आती है औरत’
ममता कालिया की कहानी ‘बोलनेवाली औरत’

Book by Asad Zaidi: