विवरण: अनुराग तिवारी में कठिन प्रेत की साधना का संयम है, जोकि उड़ती हुई कविता के पंख में बँधी किसी पंक्ति-सा अपने निशान छोड़ता चलता है। उनके यहाँ सादगी एक त्वचा का नाम है, जो देह के भीतर की सारी जटिलताओं को आवृत्त किये रखती है। ये कविताएँ तीव्र आवेग, भाव-विविधता और अनुभूतियों की बहुलता को दुलारती हैं। प्रेम पर लिखी गई कविताएँ, दो प्रेमियों के बीच की अनुभूतियाँ बने रहने से आगे बढऩे का साहस रखती हैं, उनका नैतिक संकल्प देखते बनता है, गहरे आशयों में वे दया, करुणा, क्षमा व शांति का स्वप्न देखती हैं। अपने विशुद्ध रूप में प्रेम, इन सभी शब्दों का पर्यायवाची कहला सकता है और कई कविताएँ ऐसी हैं, जहाँ कवि ने इन शब्दों की जगह मात्र प्रेम शब्द को जि़म्मेदारी सौंपी है। ज़ाहिर है, प्रेम पर सबसे अधिक भरोसा एक कवि ही कर सकता है।

– गीत चतुर्वेदी

  • Paperback: 124 pages
  • Publisher: Bodhi Prakashan; 1 edition (2018)
  • Language: Hindi
  • ASIN: B07DGSWCPD
Previous article‘पांच एब्सर्ड उपन्यास’ – नरेन्द्र कोहली
Next articleज्योति शोभा की कविताएँ
पोषम पा
सहज हिन्दी, नहीं महज़ हिन्दी...

1 COMMENT

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here