nayi kitaab - jangal gatha aur kuchh prem kavitaaein - pranay kumar

विवरण: प्रणय कुमार की कविताओं में अँधेरा है, चीख है, पुकार है, हाहाकार है और एक सन्नाटा है, किंतु यह अँधेरा मुक्तिबोध का नहीं है, न ही सन्नाटा नयी कविता वाला। इक्कीसवीं सदी का यह अँधेरा एकदम अलग है।

  • Format: Paperback
  • Publisher: Rashmi prakashan pvt. ltd. (2018)
  • ISBN-10: 9387773078
  • ISBN-13: 978-9387773073

इस किताब को खरीदने के लिए ‘जंगल गाथा और कुछ प्रेम कविताएँ’ पर या नीचे दी गयी इमेज पर क्लिक करें!

nayi kitaab - jangal gatha aur kuchh prem kavitaaein - pranay kumar

Previous articleबोल! अरी ओ धरती बोल!
Next articleसरस्वती के आविर्भाव के समय हिन्दी की अवस्था
पोषम पा
सहज हिन्दी, नहीं महज़ हिन्दी...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here