नींद और राजकुँवर

मैं सोते हुए खर्राटे लेता हूँ
इस बात का मेरे सिवा
सबको अरसे से पता है
कोसों दूर राजमहल में इससे
ध्वनिरोधी शयनकक्ष में सोते राजकुँवर की
नींद में खलल पड़ता है

मेरी नींद संदेह के घेरे में है
राज गुप्तचरों को पता लगा है कि
उसमें घोड़ों की जमकर ख़रीद-फ़रोख़्त होती है
तमाम घुड़सवारों का एकजुट हो जाना
सात पहरों में रहते राजकुँवर के लिए
ख़तरे की घनघनाती हुई घंटी है

मैं मुँह अँधेरे कभी नहीं उठता
दिन चढ़े तक सोता हूँ
इत्मिनान की चादर ताने
मच्छरों के दंश और उजाले से
ख़ुद को बख़ूबी बचाता
राजसिंहासन के लिए यह डरावनी ख़बर है

राजघराने के लिए
राजकुँवर का कच्ची नींद में जाग जाना
बहुत बड़ी मुसीबत है
और मेरा रोज नींद में उतरना
बग़ावत की पदचाप
महल की सुरक्षा में सुराख़ हो गये हैं

जब मैं चैन से सोता हूँ
राजकुँवर पैर पटक-पटक कर रोता है
उसकी जिद है कि उसे हर हाल में
मेरे वाले खर्राटे ही चाहिए
राजपाट पाने से पहले उसे
प्रजा की गहरी नींद चाहिए!

यह भी पढ़ें:

अनुराधा सिंह की कविता ‘ईश्वर नहीं नींद चाहिए’
राहुल बोयल का गद्य ‘नींद का उचटना’
आदर्श भूषण की कविता ‘नींद’