विवरण: 

शशांक ने आँखों से कहानी कही हैं, जो कहने की असम्भव कला है। उसमें सारी दृष्टि है। असगर वज़ाहत ने एक चीज़ कही है-नफ़ासत। बड़ी चीज़ है उसकी। और लाउड कहिए, सुर ऊँचा नहीं उठता है। मद्धम सुर में, बिना आवाज़ के। जिसको भाव या रस कहते हैं, एक प्रकार की अनुभूति है जो आपके मन को छुयेगी। ऐसी कि इसको कभी किसी ने छुआ न हो।

– नामवर सिंह

  • Format: Hardcover
  • Publisher: Vani Prakashan (2019)
  • ISBN-10: 9387889416
  • ISBN-13: 978-9387889415
  • ASIN: B07N8XXBQM
Previous articleतुम्हें हम चाहते तो हैं मगर क्या
Next articleपार समुंदर करना है तो.. (साहस गीत)
पोषम पा
सहज हिन्दी, नहीं महज़ हिन्दी...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here