वाह! ऐसा भी होता है
ओस की
संकोची शर्मीली-सी बूँद
गिरती है
अरवी पत्ते की गोद में
निर्निमेष
जितने परायेपन से
अरवी उसे बिठाती है
उतने ही परायेपन से
बिना चिह्न छोड़े
ओस बूँद भी
उसके अंक से बह जाती है
नही सुहाये अरवी को भी
गीला होना
चिकनी-चुपड़ी सूरत लेकर रह जाती है
यह ‘निर्मोह’ का श्रेष्ठ उदाहरण हो सकता है,
है कि नही?

यह भी पढ़ें: अयोध्या सिंह उपाध्याय ‘हरिऔध’ की कविता ‘एक बूँद’

Previous articleध्रुव यात्रा
Next articleसाँझ के बादल
नम्रता श्रीवास्तव
अध्यापिका, एक कहानी संग्रह-'ज़िन्दगी- वाटर कलर से हेयर कलर तक' तथा एक कविता संग्रह 'कविता!तुम, मैं और........... प्रकाशित।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here