ओ निशा!
अब तो तमस् को पात्र में भरकर उड़ेलो
और जो तारा-गणों की मालिका सजती तुम्हारे कण्ठ पर, उसको उतारो
मालिका से ना रहे अब मोह मेरा
कालिका की गोल में अविचल बसेरा
अब उजाले चुभ रहे हैं जागती निद्रा में मेरी
ओ निशा! मुझको भरो निज अंक में
रोशनी की छद्म आभा से निःसर्ग कलंक में

अब न मुझको देखना भाता, दिखाना भी नहीं
नित्य एक ही डगर पर अब आना-जाना भी नहीं और घने आलोक से तामिस्र की गहरी गुहा में दो शरण, कर लो वरण शिशु-शिष्य का
इस सृष्टि के आघात से कर लो हरण
निज-पाश में बांधे रखो

तुम शशि को शेखरों के मस्तकों पर
धर ही दो पूरा का पूरा
मुझे धारो मुझे तारो
सँवारो रूप मेरा सतत् नित्य-अरूप होने तक
नहीं बाँटूँगा अपने आप का पावन अंधेरा
उन उजालों को
जो मेरी सृष्टि के आरम्भ से अवसान तक
रहता, मेरे अन्तस् को भरता और करता
मुझको ख़ाली
ख़ुद से ख़ाली
पूरा ख़ाली!

नितेश व्यास की अन्य कविताएँ

किताब सुझाव:

Previous articleअपनी ही अन्यत्रता
Next article‘पहली बूँद नीली थी’ : सहज, सौम्य कविताओं का कोलाज
नितेश व्यास
सहायक आचार्य, संस्कृत, महिला पी जी कॉलेज, जोधपुर | निवास- गज्जों की गली, पूरा मौहल्ला, जोधपुर | संस्कृत विषय में विद्यावारिधि, SLET, B.ED, संस्कृत विषय अध्यापन के साथ ही हिन्दी साहित्य और विश्व साहित्य का नियमित पठन-पाठन | हिन्दी में विगत 7 वर्षों एवं संस्कृत में 3 वर्षों से कविता लेखन में संलग्न। मधुमती,हस्ताक्षर वैब पत्रिका,किस्सा कोताह,रचनावली,अनुगूंज ब्लाग पत्रिका अथाईपेज,द पुरवाई ब्लाग,नवोत्पल ब्लाग पत्रिका रचयिता,साहित्यनामा आदि वैबपोर्पटल्स सहित दैनिक नवज्योति,दैनिक युगपक्ष आदि प्रतिष्ठित पत्र-पत्रिकाओं में समय-समय पर रचनाऐं प्रकाशित।