घर से दूर
मैं मजबूर
वो उगता सूरज
ढलती धूप
वो बहता पानी
चाँद का नूर
वो आम की डाली
कोयल की कूक
वो माँ का आँचल
पी का रूप
वो खेलती बिटिया
कांधों से दूर
वो गाँव की खेती
अब मज़दूर
सब हैं ओझल
नज़रों से दूर
और… मैं मजबूर!!

Previous articleकुमार विनोद कृत ‘एकरंगा’
Next articleएक वोट से हारे भगवान

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here