‘Paribhasha’, short poems by Namrata

1

सम्भावना
एक अमिट दाग़ है
निर्बल मन में गहरे धँसी हुई
प्रतीक्षा के
साइन बोर्ड के साथ।

2

प्रतीक्षा
एक वाहक है
नैराश्य व आशान्वित
के मध्य प्रतिद्वंद्विता के
परिणाम की।

3

आशा
एक दमनकारी शक्ति है
अस्वीकार्य वर्तमान के
विरुद्ध।

4

शक्ति
एक संयोग है
एवं उसका सदुपयोग
एक प्रकार का सुयोग।

यह भी पढ़ें: नम्रता श्रीवास्तव की कविता ‘सड़कें क़ब्र हैं’

नम्रता श्रीवास्तव की किताब: ‘ज़िन्दगी – वॉटर कलर से हेयर कलर तक’