मैंने उसे ख़त लिखा था
और अब पते की ज़रूरत थी
मैंने डायरियाँ खँगालीं
किताबों के पुराने कबाड़ में खोजा
फ़ोन पर कई हितैशियों से पूछा
और हारकर बैठ गया

हारा बैठा जिस हरियल वृक्ष के नीचे
ऊपर से एक पत्ता टपका
एक नन्हीं चिड़िया प्यार से मुझे
देखती थी
मैं रो-रो पड़ता था

मैंने उसे ख़त लिखा था
और अब पते की ज़रूरत थी

हर बार ज़रूरत का ख़याल आते ही
मैं असहाय बैठ जाता था यहाँ-वहाँ
धरकर सिर पर हाथ
बाल नोंचता भटकता फिरता था

अब जिस पेड़ के नीचे बैठा था
ऊपर डाल पर बैठी
चिड़िया थोड़ी हिली
चमकी उसकी गोल-गोल पुतलियाँ
उसने चोंच खोली
और एक तिनका मेरी गोद में गिरा दिया

मुझे पता मिल चुका था।

प्रकाश की कविता 'होने की सुगन्ध'

प्रकाश की किताब यहाँ से ख़रीदें:

Previous articleवो लड़की
Next articleअपने को देखना चाहता हूँ

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here