कुछ शब्द हैं जो अपमानित होने पर
स्वयं ही जीवन और भाषा से
बाहर चले जाते हैं

‘पवित्रता’ ऐसा ही एक शब्द है
जो अब व्यवहार में नहीं,
उसकी जाति के शब्द
अब ढूँढे नहीं मिलते
हवा, पानी, मिट्टी तक में

ऐसा कोई जीता-जागता उदहारण
दिखायी नहीं देता आजकल
जो सिद्ध और प्रमाणित कर सके
उस शब्द की शत-प्रतिशत शुद्धता को!

ऐसा ही एक शब्द था ‘शांति’
अब विलिप्त हो चुका उसका वंश;
कहीं नहीं दिखायी देती वह—
न आदमी के अंदर, न बाहर!
कहते हैं मृत्यु के बाद वह मिलती है
मुझे शक है—
हर ऐसी चीज़ पर
जो मृत्यु के बाद मिलती है…

शायद ‘प्रेम’ भी ऐसा ही एक शब्द है, जिसकी अब
यादें भर बची हैं कविता की भाषा में…
ज़िन्दगी से पलायन करते जा रहे हैं
ऐसे तमाम तिरस्कृत शब्द
जो कभी उसका गौरव थे…

वे कहाँ चले जाते हैं
हमारे जीवन को छोड़ने के बाद?

शायद वे एकांतवासी हो जाते हैं
और अपने को इतना अकेला कर लेते हैं
कि फिर उन तक कोई भाषा पहुँच नहीं पाती।

कुँवर नारायण की कविता 'अबकी अगर लौटा तो'

Book by Kunwar Narayan:

Previous articleठहरिए, मैं कुछ कहना चाहता हूँ
Next articleप्रेम करती स्त्री
कुँवर नारायण
कुँवर नारायण का जन्म १९ सितंबर १९२७ को हुआ। नई कविता आंदोलन के सशक्त हस्ताक्षर कुँवर नारायण अज्ञेय द्वारा संपादित तीसरा सप्तक (१९५९) के प्रमुख कवियों में रहे हैं। कुँवर नारायण को अपनी रचनाशीलता में इतिहास और मिथक के जरिये वर्तमान को देखने के लिए जाना जाता है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here