चेन कुन लुन का जन्म दक्षिणी ताइवान के काओशोंग शहर में सन 1952 में हुआ। वह एक सुधी सम्पादक रहे हैं। चेन लिटरेरी ताइवान पत्रिका के संस्थापक सदस्यों में से हैं। दक्षिणी ताइवान के पर्यावरण विषयक मामलों में उनका गहरा हस्तक्षेप रहा है। उनके कई कविता संग्रह प्रकाशित हुए हैं। उनकी कविताएँ सहज भाषा में आम वस्तुओं से प्रेम पर आधारित होती हैं। यहाँ प्रस्तुत सभी कविताओं का अंग्रेज़ी अनुवाद विलियम मार ने किया है। अंग्रेज़ी से इनका अनुवाद हिन्दी कवि देवेश पथ सारिया ने किया है।

पानी उबल रहा है

बर्तन में उबल रहा है पानी
भाग जाना चाहता है वह
पर चारों तरफ़ हैं
लोहे की दीवारें

इनकार करता
नाकाबन्दी सहन करने से
पानी का कुछ भाग
बन जाता है भाप
और उड़ जाता है
नीले आसमान की ओर

जलन के इस दर्द को सहता
बर्तन का पानी
रो पड़ता है आख़िरकार
देखकर
चाय पीने वाले को
जो कोशिश में है
अपनी प्यास बुझाने की।

ताज़ी हवा

एक विशाल एक्वेरियम में
उष्णकटिबंधीय जलवायु की रहवासी मछलियाँ
इकट्ठी हो रही हैं एक नली के सिरे पर
थोड़ी-सी ताज़ा हवा खाने के लिए।

तुम्हारे सिर से तीन इंच ऊपर

तुम्हारे सिर से तीन इंच ऊपर
एक ईश्वर है
जो हर वक़्त देखता रहता है तुम्हें

तुम जाते हो जहाँ कहीं भी
ईश्वर भी जाता है तुम्हारे साथ
उससे कभी छुटकारा नहीं पा सकते तुम

वह तुम्हारी हर हरकत पर नज़र रखता है
तब भी, जब तुम सो रहे होते हो
वह वाक़िफ़ है
तुम्हारी सपनों की दुनिया में
छिपे हुए रहस्यों से भी

वह लिख लेता है
जो भी कुछ तुमने किया है
बाक़ी नहीं छोड़ता वह
एक भी विवरण
जब तुम मर जाओगे
तुम्हारा निर्णय होगा
इसी बहीख़ाते के आधार पर।

ली मिन-युंग की कविताएँ

किताब सुझाव:

Previous articleकिताब अंश: भारत के प्रधानमंत्री
Next articleया देवी
देवेश पथ सारिया
प्राथमिक तौर पर कवि। गद्य लेखन में भी सक्रियता।पुस्तकें: 1. 'नूह की नाव' (2021) : प्रथम कविता संग्रह साहित्य अकादमी दिल्ली से। 2. 'हक़ीक़त के बीच दरार' (2021): वरिष्ठ ताइवानी कवि ली मिन-युंग के कविता संग्रह का हिंदी अनुवाद। 3. ताइवान प्रवास के अनुभवों पर आधारित गद्य की पुस्तक शीघ्र प्रकाश्य।अन्य भाषाओं में प्रकाशन: कविताओं का अनुवाद मंदारिन चायनीज़, रूसी, स्पेनिश, पंजाबी, बांग्ला और राजस्थानी भाषा-बोलियों में हो चुका है। इन अनुवादों का का प्रकाशन लिबर्टी टाइम्स, लिटरेरी ताइवान, ली पोएट्री, यूनाइटेड डेली न्यूज़, बाँग्ला कोबिता, प्रतिमान और कथेसर पत्र-पत्रिकाओं में हुआ है।साहित्यिक पत्रिकाओं में प्रकाशन: हंस, नया ज्ञानोदय, वागर्थ, कथादेश, कथाक्रम, परिकथा, पाखी, अकार, आजकल, बनास जन, मधुमती, अहा! ज़िन्दगी, कादंबिनी, समयांतर, समावर्तन, बया, उद्भावना, जनपथ, नया पथ, कथा, साखी, आधारशिला, दोआबा, बहुमत, परिंदे, प्रगतिशील वसुधा, शुक्रवार साहित्यिक वार्षिकी, कविता बिहान, साहित्य अमृत, शिवना साहित्यिकी, गाँव के लोग, किस्सा कोताह, कृति ओर, ककसाड़, सृजन सरोकार, अक्षर पर्व, निकट, मंतव्य, गगनांचल, मुक्तांचल, उदिता, उम्मीद, विश्वगाथा, रेतपथ, अनुगूँज, प्राची, कला समय, प्रेरणा अंशु, पुष्पगंधा आदि ।वेब प्रकाशन: सदानीरा, जानकीपुल, पोषम पा, लल्लनटॉप, हिन्दीनेस्ट, हिंदवी, कविता कोश, इंद्रधनुष, अनुनाद, बिजूका, पहली बार, समकालीन जनमत, मीमांसा, शब्दांकन, अविसद, कारवां, हमारा मोर्चा, साहित्यिकी, द साहित्यग्राम, लिटरेचर पॉइंट, अथाई, हिन्दीनामा।समाचार पत्रों में प्रकाशन: राजस्थान पत्रिका, दैनिक भास्कर, प्रभात ख़बर, दि सन्डे पोस्ट।सम्मान: प्रभाकर प्रकाशन, दिल्ली द्वारा आयोजित लघुकथा प्रतियोगिता में प्रथम स्थान (2021) ।संप्रति: ताइवान में पोस्ट डाॅक्टरल शोधार्थी। मूल रूप से राजस्थान के राजगढ़ (अलवर) से संबंध।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here