लड़कियों का मन कसैला हो गया है

इन दिनों
लड़कियों का मन कसैला हो गया है

अब वह हँसती नहीं
दुपट्टा भी लहराती नहीं
अब झूला झूलती नहीं
न ही गाती है कोई गीत
खेत की पगडंडियों पर सखियों से कुलांचे भरती नहीं
वह आकाश की तरफ़ भी नहीं देखती
न ही चाँद को देर रात निहारती है
आईने के सामने घंटों सजने वाली
अब आईना भी रोता है

वह पाँच कपड़ों के भीतर रहकर भी नंग-धड़ंग महसूसती है
अब भाई-पिता की नज़रों से भी डरती है
वह नोंच देना चाहती है अपनी मुलायम चमड़ी को
काट देना चाहती है रेशमी बाल
भोथोड़ देना चाहती है होठों को
धू-धू कर जला देना चाहती है अपना अस्तित्व
उसे धिक्कार है स्वयं के होने का
वह खो रही है धैर्य
वह धकेल रही है ख़ुद को लिजलिजे गड्ढे में
वह निरन्तर कीच में धँस रही है

अब धरती बंजर होने को है
जहाँ लड़कियाँ देह से इतर कुछ भी नहीं
वह धरती बाँझ है
वहाँ देवता नहीं
दैत्य बसते हैं

काठ की कुर्सी पर बैठे सत्ताधारी को काठ मार चुका है; वह सूँघता है जाति
देखता है धर्म
गिनता है वोट
लगाकर आग फूलों को
सेंकता है रोटी

दहक रहा है देश
दहक रहा समाज
अब थर्राने की बारी तुम्हारी है।

बारिश

बारिश की बूँदें
जब गाँव-घर से होते हुए
खेत-खलिहान, ताल-तलैया, मड़ैया पर पड़ती हैं
तब वातावरण में एक गीत गुंजायमान होता है

सूखे होंठ
गुनगुना उठते हैं
मन हिलोर लेने लगता है
दुख-दर्द, बीमारी-तबाही भूल
किसान बिचड़े संग खेत की ओर दौड़ लगाता है

औरतें अंदर का तापो-तमस भूलकर
तरुणी की भाँति ढिठाई से
घुटनों तक साड़ी खोंसे कीचड़ में अठखेलियाँ करती हैं

बच्चे भूख-प्यास किताब की निचली तह में दबाकर
पसली को तगड़ी-सी चिकोटी काटकर
पगडंडियों पर दौड़कर फिसलने की रेस लगाते हैं

बूढ़ी दादियाँ आँचल के कोर से लोर पोंछकर
आँखों को ज़मीन में धँसाकर
चूल्हे पर अदहन बैठातीं
खेसारी दाल चुनतीं
पटुवा साग खोटती हैं

बूढ़े बाबा शांति से चीख़कर
मचान पर बैठे-बैठे ही चौकस हैं
बीड़ी पी-पीकर धुएँ उड़ाते हुए
गिद्ध नज़र से अंदाज़ा लगाते हैं—
इस बार धान उन्नत होगी
या पत्ते की पीली धारियाँ धान को
असमय ही निगल लेंगी।

बाढ़

फुलवा ख़ुश है
सरकारी अरवा चावल मिला है
सड़क किनारे तम्बू के बग़ल में
ईंट के चूल्हे पर भात डबक रहा है
तीनों बच्चे चूल्हे के गिर्द
भात का डबकना देख तृप्त हो रहे हैं
फुलवा के सीने में दूध उतर आया है
भात की गंध मात्र से ही दवाग्नि
शांति पा रही है

हाँफता हुआ हरखू आता है
फुलवा से कहता है—
रे फुलवा! हमार घर पूरा डूब गेल रे
अब कोउनो उम्मीद नाही…

फुलवा
भावशून्य तिरछी निगाह से देखती है
कहती है—
यह तमाशा हर साल का है
ढाढ़स रखो
सरकारी लोग चावल-पन्नी दे गए हैं
कुछ दिन ढूह पर ही ठौर होगा

बरकुआ देग से भात पसार रहा
केले का पत्ता झुलस गया है।

सुरेश जिनागल की कविताएँ

Recommended Book:

Previous articleमेरे देखने से, प्रेम में असफल लड़के पर कविता
Next articleक़िस्सागोई का कौतुक देती कहानियाँ
ज्योति रीता
एक आम स्त्री हूँ, जो तमाम आम स्त्रियों को खास बनाने की बीड़ा उठायी है। ■ विभिन्न पत्र-पत्रिकाओं यथा, नया पथ , ककसाड़ , युवा सृजनलोक , युद्धरत आम आदमी , बहुमत , संवदिया त्रैमासिक पत्रिका , माटी , विश्व हिन्दी साहित्य परिषद् आधुनिक साहित्य , स्पर्श साहित्य पत्रिका , राष्ट्रीय लोकतंत्र की पत्रिका , समृद्ध झारखंड पत्रिका , लोकतंत्र की बुनियाद , जय विजय , दिल्ली की सेल्फी , परमाण टाइम्स , हिंदुस्तान अखबार, दैनिक भास्कर साहित्यिक पेज, सुरभि,तथा अन्य अखब़ार में कविताएँ प्रकाशित।■कविता कोश में कविताओं का भावार्थ प्रकाशित। ■ ईमैग्जीन यथा बीजूका ,विश्व भारती साहित्य, लिटरेचर पॉइंट, युवा प्रवर्तक पत्रिका, हस्ताक्षर वेब पत्रिका, समकालीन परिदृश्य ब्लॉग ,साहित्यिकी डॉट कॉम ब्लॉग,प्रतिलिपि ,पोषम पा ,लोकराग, हिन्दीनेकस्ट इत्यादि में कविताएं प्रकाशित । हैं। नीलांबर कोलकाता, बिजूका में आडियो, विडियो काव्य पाठ प्रकाशित। शिक्षा-- एम.ए.( हिन्दी),एम.एड.विनोबा भावे विश्वविद्यालय हजारीबाग। वृति--- प्राध्यापिका। Email- [email protected]