सूखी नदी/भरी नदी

सूखी नदी
एक व्यथा-कहानी
जब था पानी
तब था पानी!

भरी नदी
एक सीधी कहानी
ऊपर पानी, नीचे पानी।

विरोध

उसे बाँधकर ले जा रहे थे
राजा के सेनानी
और नदी
छाती पीटकर रो रही थी
लौटा दो, लौटा दो
मुझे मेरा पानी।

चेतावनी

नदी और आग से
न कीजिए नादानी
एक मारती है पानी से
दूसरी बिन पानी।

प्रार्थना

प्रभु
मेरी खाट में
कुछ खटमल पैदा कर दो
सोकर भी मैं
जगा रहना चाहता हूँ।

सूर्योदय

कई रात ख़ाली पेट सोने के बाद
सुबह
भूखे जागने वालों से पूछिए—
सूरज देवता नहीं
एक रोटी-सा लगता है।

झुके स्तन

सूखे खेत को देखकर
झुक गया मानसरोवर
बच्चे की रुलाई सुन
झुक गए उनके स्तन
वैसे, समय पर
अपनी सम्पत्ति के उभार पर
सभी को गर्व होता है अक्सर।

Recommended Book:

Previous articleमैं आज़ाद हुई हूँ
Next articleप्रतीक्षा
राम दयाल मुण्डा
(23 अगस्त 1939 - 30 सितम्बर 2011)पदमश्री लेखक, कलाकार, राजनीतिज्ञ। आदिवासी लेखन और आदिवासी चेतना को संगठन व नेतृत्व देने के लिए उल्लेखनीय।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here