प्रेम में

‘Prem Mein’, a poem by Vikrant Mishra

प्रेम में होते हुए मैं और तुम,
एक आयत के भीतर
उसकी चारों भुजाओं को छूता
एक वृत्त खींचने की कोशिश करते हैं।

इक नया संसार बनाते मैं और तुम,
जहाँ विद्रोह की कल्पना सलीक़े से की जाए,
जहाँ लौ की सदियों तक जलते रहने की सम्भावना हो
वह भी एक बन्द बक्से में।

दुनिया इसे अतिक्रमण कहेगी
अपनी खींची लकीरों का।

कौन जाने!
हमें सज़ा किस बात की सुनायी जाए?

प्रेम करने पर, या फिर
लकीरों को धुँधली करती
बयार बनने की ख़ातिर।

यह भी पढ़ें:

अंजना टंडन की कविता ‘प्रेम’
पल्लवी विनोद की कविता ‘खण्डित प्रेम’
राखी सिंह की कविता ‘सशर्त प्रेम’
श्वेता राय का गद्य ‘धरती के सबसे प्यारे भूखंड हो तुम’

 

Recommended Book: