प्रेमचंद

प्रेमचंद के उद्धरण | Premchand Quotes in Hindi

‘लांछन’ से-

“कौन है, जो अपने अतीत को किसी भयंकर जंतु के समान कटघरों में बंद करके न रखना चाहता हो।”

‘दिल की रानी’ से-

“अमन का क़ानून जंग के क़ानून से जुदा है।”

“सल्तनत किसी आदमी की जायदाद नहीं बल्कि एक ऐसा दरख़्त है, जिसकी हरेक शाख और पत्ती एक-सी खुराक पाती है।”

‘नमक का दारोगा’ से-

“मासिक वेतन तो पूर्णमासी का चाँद है, जो एक दिन दिखायी देता है और घटते-घटते लुप्त हो जाता है।”

‘पंच परमेश्वर’ से-

“क्या बिगाड़ के डर से ईमान की बात न कहोगे?”

“हमारे सोये हुए धर्म-ज्ञान की सारी सम्पत्ति लुट जाए, तो उसे ख़बर नहीं होती, परन्तु ललकार सुनकर वह सचेत हो जाता है।”

“अपने उत्तरदायित्व का ज्ञान बहुधा हमारे संकुचित व्यवहारों का सुधारक होता है। जब हम राह भूलकर भटकने लगते हैं तब यही ज्ञान हमारा विश्वसनीय पथ-प्रदर्शक बन जाता है।”

‘बूढ़ी काकी’ से

“बुढ़ापा बहुधा बचपन का पुनरागमन हुआ करता है।”

“संतोष-सेतु जब टूट जाता है तब इच्छा का बहाव अपरिमित हो जाता है।”

 

यह भी पढ़ें: प्रेमचंद के उपन्यास ‘गबन’ से कुछ उद्धरण

Book by Premchand: