शरणकुमार लिम्बाले – ‘अक्करमाशी’

शरणकुमार लिम्बाले की आत्मकथा 'अक्करमाशी' से उद्धरण | Quotes from 'Akkarmashi' , an autobiography by Sharan Kumar Limbale   "आत्मकथा का अर्थ जो जीवन जीया है,...

अरुंधति रॉय – ‘मामूली चीज़ों का देवता’ [The God of Small...

अरुंधति रॉय के हिन्दी उद्धरण | Quotes in Hindi by Arundhati Roy किताब: 'मामूली चीज़ों का देवता' लेखिका: अरुंधति रॉय अनुवाद: नीलाभ प्रकाशक: राजकमल प्रकाशन चयन: पुनीत कुसुम   "उसके...

तुलसीराम: ‘मुर्दहिया’ व ‘मणिकर्णिका’

मुर्दहिया "हम अंजुरी मुँह से लगाए झुके रहते, और वे बहुत ऊपर से चबूतरे पर खड़े-खड़े पानी गिराते। वे पानी बहुत कम पिलाते थे किंतु...

राही मासूम रज़ा – ‘टोपी शुक्ला’

प्रस्तुति: पुनीत कुसुम   "मुझे यह उपन्यास लिखकर कोई ख़ुशी नहीं हुई।"   "समय के सिवा कोई इस लायक़ नहीं होता कि उसे किसी कहानी का हीरो बनाया...

भीमराव आम्बेडकर

"शिक्षित रहें, संगठित रहें, आन्दोलित रहें!"   "जीवन लम्बा होने के बजाय महान होना चाहिए।"   "पति और पत्नी के बीच घनिष्ठ मित्रों जैसा सम्बन्ध होना चाहिए।"   "हम सर्वप्रथम,...

हरमन हेस – ‘सिद्धार्थ’

हरमन हेस की किताब 'सिद्धार्थ' से उद्धरण | Quotes from 'Siddhartha', a book by Hermann Hesse   "ज्ञान का सबसे बड़ा शत्रु ज्ञानी पुरुष के सिवा,...

मनोहर श्याम जोशी

मनोहर श्याम जोशी के उद्धरण | Manohar Shyam Joshi Quotes   "प्यार होता है तो पहली ही नज़र में पूरी तरह हो जाता है। दूसरी नज़र...

प्रेमचंद

प्रेमचंद के उद्धरण | Premchand Quotes in Hindi   'साहित्य में बुद्धिवाद' से   "अगर साहित्य का जीवन में कोई उपयोग न हो तो वह व्यर्थ की चीज़...

रॉबर्ट फ़्रॉस्ट

रॉबर्ट फ़्रॉस्ट के हिन्दी उद्धरण | Robert Frost Quotes in Hindi   "कवि होना एक अवस्था है; वृत्ति नहीं।" अनुवाद: आदर्श भूषण

मधु कांकरिया

मधु कांकरिया के उद्धरण | Madhu Kankariya Quotes   "अपराधबोध आसमान में उड़ती वह काली चील होती है जो आपके ज़रा-सा ख़ाली होते ही झपट्टा मार...

हरिशंकर परसाई

हरिशंकर परसाई के उद्धरण | Harishankar Parsai Quotes   'पवित्रता का दौरा' से "पवित्रता की भावना से भरा लेखक उस मोर जैसा होता है जिसके पाँव में...

भीष्म साहनी

भीष्म साहनी के उद्धरण | Quotes by Bhisham Sahni   "ईमानदार आदमी क्यों इतना ढीला-ढाला होता है, क्यों सकुचाता-झेंपता रहता है, यह बात कभी भी मेरी...

STAY CONNECTED

32,392FansLike
11,518FollowersFollow
21,113FollowersFollow
661SubscribersSubscribe

Recent Posts

Mannu Bhandari

सयानी बुआ

सब पर मानो बुआजी का व्यक्तित्व हावी है। सारा काम वहाँ इतनी व्यवस्था से होता जैसे सब मशीनें हों, जो क़ायदे में बँधीं, बिना...
Javed Akhtar

एक मोहरे का सफ़र

जब वो कम-उम्र ही था उसने ये जान लिया था कि अगर जीना है बड़ी चालाकी से जीना होगा आँख की आख़िरी हद तक है बिसात-ए-हस्ती और वो...
Kishwar Naheed

ग्लास लैंडस्केप

अभी सर्दी पोरों की पहचान के मौसम में है इससे पहले कि बर्फ़ मेरे दरवाज़े के आगे दीवार बन जाए तुम क़हवे की प्याली से उठती...
Paash

भारत

भारत— मेरे सम्मान का सबसे महान शब्द जहाँ कहीं भी प्रयोग किया जाए बाक़ी सभी शब्द अर्थहीन हो जाते हैं इस शब्द के अर्थ खेतों के उन बेटों में...
Chandrakant Devtale

तुम्हारी आँखें

ज्वार से लबालब समुद्र जैसी तुम्हारी आँखें मुझे देख रही हैं और जैसे झील में टपकती हैं ओस की बूँदें तुम्हारे चेहरे की परछाईं मुझमें प्रतिक्षण और यह सिलसिला...
Swayam Prakash

चौथा हादसा

मेरा तबादला जैसलमेर हो गया था और वहाँ की फ़िज़ा में ऐसा धीरज, इतनी उदासी, ऐसा इत्मीनान, इस क़दर अनमनापन, ऐसा 'नेचा' है कि...
Sharad Billore

हम आज़ाद हैं

सतरंगे पोस्टर चिपका दिए हैं हमने दुनिया के बाज़ार में कि हम आज़ाद हैं। हम चीख़ रहे हैं चौराहों पर हम आज़ाद हैं हम आज़ाद हैं क्योंकि हमने भूख से मरते क़र्ज़ के नीचे...
Dharmvir Bharati

थके हुए कलाकार से

सृजन की थकन भूल जा देवता अभी तो पड़ी है धरा अधबनी! अभी तो पलक में नहीं खिल सकी नवल कल्पना की मधुर चाँदनी, अभी अधखिली ज्योत्सना की...
Majaz Lakhnavi

नहीं ये फ़िक्र कोई रहबर-ए-कामिल नहीं मिलता

नहीं ये फ़िक्र कोई रहबर-ए-कामिल नहीं मिलता कोई दुनिया में मानूस-ए-मिज़ाज-ए-दिल नहीं मिलता कभी साहिल पे रहकर शौक़ तूफ़ानों से टकराएँ कभी तूफ़ाँ में रहकर फ़िक्र है...
Ahmad Nadeem Qasmi

कौन कहता है कि मौत आयी तो मर जाऊँगा

कौन कहता है कि मौत आयी तो मर जाऊँगा मैं तो दरिया हूँ, समुंदर में उतर जाऊँगा तेरा दर छोड़ के मैं और किधर जाऊँगा घर में...
कॉपी नहीं, शेयर करें! ;-)