आर. के. लक्ष्मण के उद्धरण | RK Laxman Quotes in Hindi

अनुवाद: पुनीत कुसुम

 

“एक बच्चे को वास्तविकता कल्पना से कहीं अधिक शानदार लगती है।”

 

“भारत का आम आदमी, जल, भोजन, प्रकाश, वायु और आश्रय के बिना जीवित रह सकता है।”

 

“नये विचारों की खोज करना एक अन्तहीन प्रक्रिया है।”

 

“एक कार्टूनिस्ट को एक महान आदमी में नहीं, एक हास्यास्पद आदमी में आनन्द मिलता है।”

 

“कार्टूनिंग अपमान और उपहास करने की कला है।”

 

“बदलाव? क्या आकाश का रंग कभी बदलता है? मेरा प्रतीक कभी नहीं बदलेगा!”

 

“कौवे दिखने में इतने अच्छे और इतने बुद्धिमान होते हैं। राजनीति में मुझे ऐसे चरित्र कहाँ मिलेंगे?”

 

“मेरी प्रत्येक चित्रकारी मेरी पसंदीदा है।”

 

“हमारी राजनीती इतनी विषादपूर्ण है कि मैं यदि कार्टूनिस्ट नहीं होता, तो आत्महत्या कर लेता।”

 

“आमतौर पर, लोग किसी भी वस्तु का मूल्य नहीं समझते, उन्हें अपने आस-पास मुश्किल ही कुछ दिखता है।”

 

“मैं हमारे नेताओं का आभारी हूँ, उन्होंने देश का नहीं, बल्कि मेरा ख़याल रखा है।”

 

“मुझे लगता है अराजकता हमारे लिए अधिक उपयुक्त होती।”

 

यह भी पढ़ें: ‘पाब्लो पिकासो के उद्धरण’

Book by R K Laxman:

Previous articleठेठ हिन्दी
Next articleशान्ति
आर. के. लक्ष्मण
रासीपुरम कृष्णस्वामी लक्ष्मण (संक्षेप में आर॰के॰ लक्ष्मण; २४ अक्टूबर १९२१ – २६ जनवरी २०१५) भारत के प्रमुख हास्यरस लेखक और व्यंग-चित्रकार थे। उन्हें 'द कॉमन मैन' नामक उनकी रचना और द टाइम्स ऑफ़ इंडिया के लिए उनके प्रतिदिन लिखी जानी वाली कार्टून शृंखला "यू सैड इट" के लिए जाना जाता है जो वर्ष १९५१ में आरम्भ हुई थी।