हमारे मुन्ने को चाह थी रेडियो ख़रीदें
कि अब हमारे यहाँ फ़राग़त की रौशनी थी
मैं अपनी देरीना तंग-दस्ती की दास्ताँ उसको क्या सुनाता
उठाके ले आया तंग-ओ-तारीक कोठरी से
क़लील तनख़्वाह के चिचोड़े हुए निवाले
और उनमें मेरी
नहीफ़ बीवी ने अपनी दो-चार बाक़ी-माँदा शिकस्त-आमेज़ आरज़ूओं का ख़ून डाला
न जाने कब से था प्यारे मुन्ने ने रेडियो का ये ख़्वाब पाला

ये एक हफ़्ते की बात है और कल से मुन्ना ये कह रहा है
ये जानवर सुब्ह-ओ-शाम बेकार बोलता है
मुहीब ख़बरों का ज़हर गीतों में घोलता है
गली में कोई फ़क़ीर आए तो उसको दे दो
मुझे इकन्नी का मोर ले दो!