हमारे मुन्ने को चाह थी रेडियो ख़रीदें
कि अब हमारे यहाँ फ़राग़त की रौशनी थी
मैं अपनी देरीना तंग-दस्ती की दास्ताँ उसको क्या सुनाता
उठाके ले आया तंग-ओ-तारीक कोठरी से
क़लील तनख़्वाह के चिचोड़े हुए निवाले
और उनमें मेरी
नहीफ़ बीवी ने अपनी दो-चार बाक़ी-माँदा शिकस्त-आमेज़ आरज़ूओं का ख़ून डाला
न जाने कब से था प्यारे मुन्ने ने रेडियो का ये ख़्वाब पाला

ये एक हफ़्ते की बात है और कल से मुन्ना ये कह रहा है
ये जानवर सुब्ह-ओ-शाम बेकार बोलता है
मुहीब ख़बरों का ज़हर गीतों में घोलता है
गली में कोई फ़क़ीर आए तो उसको दे दो
मुझे इकन्नी का मोर ले दो!

Previous articleबोध
Next articleएक सपना यह भी
बलराज कोमल
बलराज कोमल उर्दू के एक प्रसिद्ध शायर थे। उनका जन्म 25 सितम्बर, 1928 को सियालकोट (वर्तमान में पाकिस्तान) में हुआ था। देश के विभाजन के बाद उन्होंने दिल्ली को ही अपना निवास स्थल और कर्म भूमि बनाया था।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here