मूल कविताएँ: रेनर मारिया रिल्के
अनुवाद: उसामा हमीद

दुखड़ा

Lament

सब कुछ दूर है
और बहुत पहले ख़त्म हो चुका है।
मुझे लगता है
मेरे ऊपर चमकता हुआ तारा
करोड़ों बरस पहले मर चुका है।
मुझे लगता है
मेरे क़रीब से गुज़री कार में
आँसू थे और
कुछ भयानक कहा गया था।
सड़क के उस पार
एक मकान में घड़ी का बजना कब का बन्द हो चुका है

यह शुरू ही कब हुआ था…
मैं अपने दिल से निकलकर
अज़ीम आसमान तले टहलना चाहता हूँ।
दुआ करना चाहता हूँ।
और बेशक बहुत पहले
ख़त्म हो चुके उन तमाम सितारों में से
एक अब भी बाक़ी है।
मुझे लगता है कि मैं जानता हूँ
वह तारा कौन-सा है
वह, जो आकाश में अपनी किरण के आख़िरी छोर पर
किसी सफ़ेद शहर की तरह मौजूद है।

अंधे आदमी का गीत

The Song of The Blindman

मैं अंधा हूँ, ऐ अजनबियों। यह एक लानत है,
एक द्वन्द्व, एक थकाऊ स्वाँग,
मेरा मुसलसल दुःख।
मैं अपनी पत्नी की बाँहों पर हाथ रखता हूँ
(बे-रंग कलाई पर बे-रंग हाथ)
और वह मुझे बंजर हवाओं की सैर कराती है।

तुम धक्के देते हो और समझते हो कि यह
पत्थरों के टकराव से अलग है,
हाय तुम्हारी नादानी, मैं अकेला ही
जीता हूँ, मरता हूँ, रोता हूँ।
मेरे भीतर एक असीम चीख़ बसती है
और मैं नहीं जानता कि यह मेरा
टूटा हुआ दिल रोता है या मेरी अंतड़ियाँ।

क्या तुम इन धुनों से परिचित हो? इन्हें ऐसे मत गाओ—
तुम समझ ही कैसे सकते हो?
धूप हर सुबह तुम्हारे घर में आ जाती है और तुम
एक दोस्त की तरह इसका स्वागत करते हो।
तुम्हें मालूम है आमने-सामने देखना क्या होता है
यही तो है जो तुम्हें मेहरबान बनाता है।

पतझड़ का एक दिन

Day In Autumn

ऐ ख़ुदा, वक़्त आ गया है। लम्बी गर्मियाँ जा चुकी हैं।
अब तू धूप-घड़ियों को अपने साए में लपेट ले,
और घास-मैदानों में हवाओं को आज़ाद छोड़!

पेड़ों और बेलों को फलने-फूलने का आदेश दे
उन्हें कुछ और गर्म पारदर्शी दिन अता कर
उनसे ख़ूब भरपूर रस भरने की दरख़्वास्त कर
और फिर उन्हें गाढ़ी शराब में निचोड़ दे।

जिसके पास मकान नहीं, वह बेघर ही रह जाएगा
जो अकेला है, वह तनहा ही रह जाएगा,
शामों में बैठकर लम्बे ख़त पढ़ते और लिखते हुए
शहर की शाहराहों पर बेचैन, मारे फिरते हुए
कभी आगे, कभी पीछे, और सूखी पत्तियाँ उड़ती रहेंगी।

रेनर मारिया रिल्के के 'एक युवा कवि को पत्र' से उद्धरण

किताब सुझाव:

Previous articleताबूत (II)
Next articleविदा ले चुके अतिथि की स्मृति
उसामा हमीद
अपने बारे में कुछ बता पाना उतना ही मुश्किल है जितना खुद को खोज पाना.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here