राम की खोज

‘Ram Ki Khoj’, a poem by Adarsh Bhushan

मुझे नहीं चाहिए वो राम
जो तुमने मुझे दिया है,
त्रेता के रावण का
कलियुग में
संज्ञा से विशेषण होना
और
एक नयी उपमा की निर्माण प्रक्रिया,
एक नए राम की खोज में है,
जलता रावण
आज भी भीड़ में
आँसू लिए
‘राम’ खोजता है,
खोजता है
उस राम का अस्तित्व
उस राम का अधिकार
जो उस पर विजय पा सके।

यह भी पढ़ें:

हरिमोहन झा का व्यंग्य ‘रामायण’
बृज नारायण चकबस्त की नज़्म ‘रामायण का एक सीन’
हरिशंकर परसाई का व्यंग्य ‘रामकथा क्षेपक

Recommended Book: