“मैंने क़त्ल क्यों किया। एक इंसान के ख़ून में अपने हाथ क्यों रंगे, यह एक लम्बी दास्तान है। जब तक मैं उसके तमाम अवाक़िब ओ अवातिफ़ से आपको आगाह नहीं करूँगा, आपको कुछ पता नहीं चलेगा… मगर उस वक़्त आप लोगों की गुफ़्तगु का मौज़ू जुर्म और सज़ा है। इंसान और जेल है… चूँकि मैं जेल में रह चुका हूँ, इसलिए मेरी राय नादुरुस्त नहीं हो सकती।

मुझे मंटो साहब से पूरा इत्तफ़ाक़ है कि जेल, मुजरिम की इस्लाह नहीं कर सकती। मगर यह हक़ीक़त इतनी बार दुहराई जा चुकी है कि उस पर ज़ोर देने से आदमी को यूँ महसूस होता है जैसे वो किसी महफ़िल में हज़ार बार सुनाया हुआ लतीफ़ा बयान कर रहा है… और यह लतीफ़ा नहीं कि इस हक़ीक़त को जानते पहचानते हुए भी हज़ारहा जेलख़ाने मौजूद हैं। हथकड़ियाँ हैं और वो नंग-ए-इंसानियत बेड़ियाँ… मैं क़ानून का यह ज़ेवर पहन चुका हूँ।”

यह कहकर रिज़वी ने मेरी तरफ़ देखा और मुस्कुराया। उसके मोटे-मोटे हब्शियों के से होंठ अजीब अंदाज़ में फड़के। उसकी छोटी-छोटी मख़मूर आँखें, जो क़ातिल की आँखें लगी थीं चमकीं। हम सब चौंक पड़े थे। जब उसने यकायक हमारी गुफ़्तगु में हिस्सा लेना शुरू कर दिया था।

वो हमारे क़रीब कुर्सी पर बैठा क्रीम मिली हुई काफ़ी पी रहा था। जब उसने ख़ुद को मुतआरिफ़ कराया तो हमें वो तमाम वाक़ियात याद आ गए जो उसकी क़त्ल की वारदात से वाबस्ता थे। वादा माफ़ गवाह बनकर उसने बड़ी सफ़ाई से अपनी और अपने दोस्तों की गर्दन फाँसी के फंदे से बचा ली थी।

वो उसी दिन रिहा होकर आया था। बड़े शाइस्ता अंदाज़ में वो मुझसे मुख़ातिब हुआ, “माफ़ कीजिएगा मंटो साहब… आप लोगों की गुफ़्तगु से मुझे दिलचस्पी है। मैं अदीब तो नहीं, लेकिन आपकी गुफ़्तगु का जो मौज़ू है उस पर अपनी टूटी-फूटी ज़बान में कुछ न कुछ ज़रूर कह सकता हूँ।

फिर उसने कहा, “मेरा नाम सिद्दीक़ रिज़वी है… लिंडा बाज़ार में जो क़त्ल हुआ था, मैं उससे मुतअल्लिक़ था।”

मैंने उस क़त्ल के मुतअल्लिक़ सिर्फ़ सरसरी तौर पर पढ़ा था। लेकिन जब रिज़वी ने अपना तआरुफ़ कराया तो मेरे ज़ेहन में ख़बरों की तमाम सुर्खियाँ उभर आयीं।

हमारी गुफ़्तुगू का मौज़ू यह था कि आया जेल मुजरिम की इस्लाह कर सकती है। मैं ख़ुद महसूस कर रहा था। हम एक बासी रोटी खा रहे हैं। रिज़वी ने जब यह कहा, ‘यह हक़ीक़त इतनी बार दुहराई जा चुकी है कि उस पर ज़ोर देने से आदमी को यूँ महसूस होता है, जैसे वो किसी महफ़िल में हज़ार बार सुनाया हुआ लतीफ़ा बयान कर रहा है।’ तो मुझे बड़ी तसकीन हुई। मैंने यह समझा जैसे रिज़वी ने मेरे ख़यालात की तर्जुमानी कर दी है।

क्रीम मिली हुई कॉफ़ी की प्याली ख़त्म करके रिज़वी ने अपनी छोटी-छोटी मख़मूर आँखों से मुझे देखा और बड़ी संजीदगी से कहा, “मंटो साहब आदमी जुर्म क्यों करता है… जुर्म क्या है, सज़ा क्या है… मैंने उसके मुतअल्लिक़ बहुत ग़ौर किया है। मैं समझता हूँ कि हर जुर्म के पीछे एक हिस्ट्री होती है… ज़िन्दगी के वाक़ियात का एक बहुत बड़ा टुकड़ा होता है, बहुत उलझा हुआ, टेढ़ा मेढ़ा… मैं नफ़्सियात का माहिर नहीं… लेकिन इतना ज़रूर जानता हूँ कि इंसान से ख़ुद जुर्म सरज़द नहीं होता, हालात से होता है!”

नसीर ने कहा, “आपने बिल्कुल दुरुस्त कहा है।”

रिज़वी ने एक और कॉफ़ी का आर्डर दिया और नसीर से कहा, “मुझे मालूम नहीं जनाब, लेकिन मैंने जो कुछ अर्ज़ किया है अपने मुशाहिदात की बिना पर अर्ज़ किया है वर्ना यह मौज़ू बहुत पुराना है। मेरा ख़याल है कि विक्टर ह्यूगो… फ़्रांस का एक मशहूर नावेलिस्ट था… शायद किसी और मुल्क का हो… आप तो ख़ैर जानते ही होंगे, जुर्म और सज़ा पर उसने काफ़ी लिखा है। मुझे उसकी एक तस्नीफ़ के चंद फ़िक़रे याद हैं।”

यह कहकर वह मुझसे मुख़ातिब हुआ, “मंटो साहब, ग़ालिबन आप ही का तर्जुमा था…क्या था? वो सीढ़ी उतार दो जो इंसान को जराइम और मसाइब की तरफ़ ले जाती है… लेकिन मैं सोचता हूँ कि वो सीढ़ी कौन-सी है। उसके कितने ज़ीने हैं।

“कुछ भी हो, यह सीढ़ी ज़रूर है, उसके ज़ीने भी हैं, लेकिन जहाँ तक मैं समझता हूँ, बेशुमार हैं। उनको गिनना, उनका शुमार करना ही सबसे बड़ी बात है। मंटो साहब, हुकूमतें राय शुमारी करती हैं, हुकूमतें आदाद-ओ-शुमार करती हैं, हुकूमतें हर क़िस्म की शुमारी करती हैं… उस सीढ़ी के ज़ीनों की शुमारी क्यों नहीं करतीं। क्या यह उनका फ़र्ज़ नहीं… मैंने क़त्ल किया, लेकिन उस सीढ़ी के कितने ज़ीने तय करके किया? हुकूमत ने मुझे वादा माफ़ गवाह बना लिया, इसलिए कि क़त्ल का सुबूत उसके पास नहीं था, लेकिन सवाल यह है कि मैं अपने गुनाह की माफ़ी किससे माँगूँ? वो हालात जिन्होंने मुझे क़त्ल करने पर मजबूर किया था। अब मेरे नज़दीक नहीं हैं, उनमें और मुझमें एक बरस का फ़ासिला है। मैं इस फ़ासले से माफ़ी माँगूँ या उन हालात से जो बहुत दूर खड़े मेरा मुँह चिढ़ा रहे हैं।”

हम सब रिज़वी की बातें बड़े ग़ौर से सुन रहे थे। वो बज़ाहिर तालीम याफ़्ता मालूम नहीं होता था, लेकिन उसकी गुफ़्तुगु से साबित हुआ कि वो पढ़ा-लिखा है और बात करने का सलीक़ा जानता है।

मैंने उससे कुछ कहा होता, लेकिन मैं चाहता था कि वो बातें करता जाए और मैं सुनता जाऊँ। इसीलिए मैं उसकी गुफ़्तुगु में हाइल न हुआ।

उसके लिए नयी कॉफ़ी आ गई थी। उसे बनाकर उसने चंद घूँट पिए और कहना शुरू किया, “ख़ुदा मालूम मैं क्या बकवास करता रहा हूँ, लेकिन मेरे ज़ेहन में हर वक़्त एक आदमी का ख़याल रहा है… उस आदमी का, उस भंगी का जो हमारे साथ जेल में था। उसको साढे़ तीन आने चोरी करने पर एक बरस की सज़ा हुई थी।”

नसीर ने हैरत से पूछा, “सिर्फ़ साढे़ तीन आने चोरी करने पर?”

रिज़वी ने यख़-आलूद जवाब दिया, “जी हाँ, सिर्फ़ साढे़ तीन आने की चोरी पर… और जो उसको नसीब न हुए, क्योंकि वो पकड़ा गया। यह रक़म ख़ज़ाने में महफ़ूज़ है और फग्गू भंगी ग़ैर-महफ़ूज़ है क्योंकि हो सकता है वो फिर पकड़ा जाए, क्योंकि हो सकता है उसका पेट फिर उसे मजबूर करे, क्योंकि हो सकता है कि उससे गू-मूत साफ़ कराने वाले उसकी तनख़्वाह न दे सकें, क्योंकि हो सकता है उसको तनख़्वाह देने वालों को अपनी तनख़्वाह न मिले… यह हो सकता है का सिलसिला मंटो साहब अजीब- ओ-ग़रीब है। सच पूछिए तो दुनिया में सब कुछ हो सकता है… रिज़वी से क़त्ल भी हो सकता है।”

यह कहकर वह थोड़े अर्से के लिए ख़ामोश हो गया। नसीर ने उससे कहा,”आप फग्गू भंगी की बात कर रहे थे?”

रिज़वी ने अपनी छिदरी मूँछों पर से कॉफ़ी रूमाल के साथ पोंछी, “जी हाँ… फग्गू भंगी चोर होने के बावजूद, यानी वो क़ानून की नज़रों में चोर था। लेकिन हमारी नज़रों में पूरा ईमानदार। ख़ुदा की क़सम मैंने आज तक उस जैसा ईमानदार आदमी नहीं देखा, साढे़ तीन आने उसने ज़रूर चुराए थे, उसने साफ़ साफ़ अदालत में कह दिया था कि यह चोरी मैंने ज़रूर की है, मैं अपने हक़ में कोई गवाही पेश नहीं करना चाहता।

मैं दो दिन का भूखा था, मजबूरन मुझे करीम दर्ज़ी की जेब में हाथ डालना पड़ा। उससे मुझे पाँच रुपये लेने थे… दो महीनों की तनख़्वाह। हुज़ूर उसका भी कुछ क़ुसूर नहीं था। इसलिए कि उसके कई ग्राहकों ने उसकी सिलाई के पैसे मारे हुए थे। हुज़ूर, मैं पहले भी चोरियाँ कर चुका हूँ। एक दफ़ा मैंने दस रुपये एक मेम साहब के बटुवे से निकाल लिए थे। मुझे एक महीने की सज़ा हुई थी। फिर मैंने डिप्टी साहब के घर से चांदी का एक खिलौना चुराया था इसलिए कि मेरे बच्चे को निमोनिया था और डाक्टर बहुत फ़ीस माँगता था।

हुज़ूर मैं आपसे झूठ नहीं कहता। मैं चोर नहीं हूँ… कुछ हालात ही ऐसे थे कि मुझे चोरियाँ करनी पड़ीं… और हालात ही ऐसे थे कि मैं पकड़ा गया। मुझसे बड़े-बड़े चोर मौजूद हैं लेकिन वो अभी तक पकड़े नहीं गए। हुज़ूर, अब मेरा बच्चा भी नहीं है, बीवी भी नहीं है… लेकिन हुज़ूर अफ़सोस है कि मेरा पेट है, यह मर जाए तो सारा झंझट ही ख़त्म हो जाए। हुज़ूर मुझे माफ़ कर दो, लेकिन हुज़ूर ने उसको माफ़ न किया और आदी चोर समझकर उसको एक बरस क़ैद बा-मशक़क़्त की सज़ा दे दी।”

रिज़वी बड़े बेतकल्लुफ़ अंदाज़ में बोल रहा था। उसमें कोई तसन्नो, कोई बनावट नहीं थी। ऐसा लगता था कि अलफ़ाज़ ख़ुद-ब-ख़ुद उसकी ज़बान पर आते और बहते चलते जा रहे हैं। मैं बिल्कुल ख़ामोश था। सिगरेट पर सिगरेट पी रहा था और उसकी बातें सुन रहा था। नसीर फिर उससे मुख़ातिब हुआ, “आप फग्गू की ईमानदारी की बात कर रहे थे?”

“जी हाँ।” रिज़वी ने जेब से बीड़ी निकालकर सुलगायी, “मैं नहीं जानता क़ानून की निगाहों में ईमानदारी क्या चीज़ है, लेकिन मैं इतना जानता हूँ कि मैंने बड़ी ईमानदारी से क़त्ल किया था… और मेरा ख़याल है कि फग्गू भंगी ने भी बड़ी ईमानदारी से साढे़ तीन आने चुराए थे।

मेरी समझ में नहीं आता कि लोग ईमानदार को सिर्फ़ अच्छी बातों से क्यों मंसूब करते हैं, और सच पूछिए तो मैं अब यह सोचने लगा हूँ कि अच्छाई और बुराई है क्या। एक चीज़ आपके लिए अच्छी हो सकती है, मेरे लिए बुरी। एक सोसाइटी में एक चीज़ अच्छी समझी जाती है, दूसरी में बुरी। हमारे मुसलमानों में बग़लों के बाल बढ़ाना गुनाह समझा जाता है, लेकिन सिख्ख उससे बेनियाज़ हैं।

अगर यह बाल बढ़ाना वाक़ई गुनाह है तो ख़ुदा उनको सज़ा क्यों नहीं देता।

अगर कोई ख़ुदा है तो मेरी उससे दरख़्वास्त है कि ख़ुदा के लिए तुम ये इंसानों के क़वानीन तोड़ दो, उनकी बनायी हुई जेलें ढा दो, और आसमानों पर अपनी जेलें ख़ुद बनाओ। ख़ुद अपनी अदालत में उनको सज़ा दो, क्योंकि और कुछ नहीं तो कम अज़ कम ख़ुदा तो हो।”

रिज़वी की इस तक़रीर ने मुझे बहुत मुतअस्सिर किया। उसकी ख़ामकारी ही असल में तअस्सुर का बाइस थी। वो बातें करता था तो यूँ लगता है जैसे वो हमसे नहीं बल्कि अपने आपसे दिल ही दिल में गुफ़्तुगू कर रहा है।

उसकी बीड़ी बुझ गई थी, ग़ालिबन उसमें तम्बाकू की गाँठ अटकी हुई थी। इसलिए कि उसने पाँच-छः मर्तबा उसको सुलगाने की कोशिश की। जब न सुलगी तो फेंक दी और मुझसे मुख़ातिब होकर कहा, “मंटो साहब, फग्गू मुझे अपनी तमाम ज़िन्दगी याद रहेगा। आपको बताऊँगा तो आप ज़रूर कहेंगे कि जज़्बातियत है, लेकिन ख़ुदा की क़सम जज़्बातियत को इसमें कोई दख़्ल नहीं। वो मेरा दोस्त नहीं था, नहीं, वो मेरा दोस्त था क्योंकि उसने हर बार ख़ुद को ऐसा ही साबित किया।”

रिज़वी ने जेब में से दूसरी बीड़ी निकाली मगर वो टूटी हुई थी। मैंने उसे सिगरेट पेश किया तो उसने क़ुबूल कर लिया, “शुक्रिया, मंटो साहब… माफ़ कीजिएगा, मैंने इतनी बकवास की है, हालाँकि मुझे नहीं करनी चाहिए थी इसलिए कि माशाअल्लाह आप…”

मैंने उसकी बात काटी, “रिज़वी साहब, मैं इस वक़्त मंटो नहीं हूँ, सिर्फ़ सआदत हसन हूँ। आप अपनी गुफ़्तुगू जारी रखिए। मैं बड़ी दिलचस्पी से सुन रहा हूँ।”

रिज़वी मुस्कुराया। उसकी छोटी-छोटी मख़मूर आँखों में चमक पैदा हुई, “आपकी बड़ी नवाज़िश है।” फिर वो नसीर से मुख़ातिब हुआ, “मैं क्या कह रहा था?”

मैंने उससे कहा, “आप फग्गू की ईमानदारी के मुतअल्लिक़ कुछ कहना चाहते थे।”

“जी हाँ”, यह कहकर उसने मेरा पेश किया हुआ सिगरेट सुलगाया, “मंटो साहब, क़ानून की नज़रों में वो आदी चोर था। बीड़ियों के लिए एक दफ़ा उसने आठ आने चुराए थे। बड़ी मुश्किलों से, दीवार फाँदकर जब उसने भागने की कोशिश की थी तो उसके टख़ने की हड्डी टूट गई थी।

क़रीब-क़रीब एक बरस तक वो उसका इलाज कराता रहा था, मगर जब मेरा हम-इल्ज़ाम दोस्त जरजी बीस बीड़ियाँ उसकी मार्फ़त भेजता तो वो सब की सब पुलिस की नज़रें बचाकर मेरे हवाले कर देता। वादा माफ़ गवाहों पर बहुत कड़ी निगरानी होती है, लेकिन जरजी ने फग्गू को अपना दोस्त और हमराज़ बना लिया था। वो भंगी था, लेकिन उसकी फ़ितरत बहुत ख़ुशबूदार थी।

शुरू-शुरू में जब वो जरजी की बीड़ियाँ लेकर मेरे पास आया तो मैंने सोचा, इस हरामज़ादे चोर ने ज़रूर इनमें से कुछ ग़ायब कर ली होंगी, मगर बाद में मुझे मालूम हुआ कि वो क़तई तौर पर ईमानदार था।

बीड़ी के लिए उसने आठ आने चुराते हुए अपने टख़ने की हड्डी तुड़वा ली थी मगर यहाँ जेल में उसको तम्बाकू कहीं से भी नहीं मिल सकता था, वो जरजी की दी हुई बीड़ियाँ तमाम-ओ-कमाल मेरे हवाले कर देता था, जैसे वो अमानत हों। फिर वो कुछ देर हिचकिचाने के बाद मुझसे कहता, बाबू जी, एक बीड़ी तो दीजिए और मैं उसको सिर्फ़ एक बीड़ी देता… इंसान भी कितना कमीना है!”

रिज़वी ने कुछ इस अंदाज़ से अपना सर झटका जैसे वो अपने आपसे मुतनफ़्फ़िर है, “जैसा कि मैं अर्ज़ कर चुका हूँ, मुझ पर बहुत कड़ी पाबन्दियाँ आइद थीं। वादा माफ़ गवाहों के साथ ऐसा ही होता है। जरजी अलबत्ता मेरे मुक़ाबले में बहुत आज़ाद था। उसको रिश्वत दे-दिलाकर बहुत आसानियाँ मुहय्या थीं। कपड़े मिल जाते थे, साबुन मिल जाता था, बीड़ियाँ मिल जाती थीं।

जेल के अंदर रिश्वत देने के लिए रुपये भी मिल जाते थे। फग्गू भंगी की सज़ा ख़त्म होने में सिर्फ़ चंद दिन बाक़ी रह गए थे, जब उसने आख़िरी बार जरजी की दी हुई बीड़ियाँ मुझे ला कर दीं। मैंने उसका शुक्रिया अदा किया। वो जेल से निकलने पर ख़ुश नहीं था।

मैंने जब उसको मुबारकबाद दी तो उसने कहा, बाबू जी, मैं फिर यहाँ आ जाऊँगा। भूखे इंसान को चोरी करनी ही पड़ती है… बिल्कुल ऐसे ही जैसे एक भूखे इंसान को खाना खाना ही पड़ता है। बाबू जी आप बड़े अच्छे हैं, मुझे इतनी बीड़ियाँ देते रहे… ख़ुदा करे आपके सारे दोस्त बरी हो जाएँ। जरजी बाबू आपको बहुत चाहते हैं।”

नसीर ने यह सुनकर ग़ालिबन अपने आपसे कहा, “और उसको सिर्फ़ साढे़ तीन आने चुराने के जुर्म में सज़ा मिली थी।”

रिज़वी ने गर्म कॉफ़ी का एक घूँट पीकर ठण्डे अंदाज़ में कहा, “जी हाँ, सिर्फ़ साढे़ तीन आने चुराने के जुर्म में… और वो भी ख़ज़ाने में जमा हैं। ख़ुदा मालूम उनसे किस पेट की आग बुझेगी?”

रिज़वी ने कॉफ़ी का एक और घूँट पिया और मुझसे मुख़ातिब होकर कहा, “हाँ मंटो साहब, उसकी रिहाई में सिर्फ़ एक दिन रह गया था। मुझे दस रुपयों की अशद ज़रूरत थी… मैं तफ़सील में नहीं जाना चाहता। मुझे ये रुपये एक सिलसिले में संतरी को रिश्वत के तौर पर देने थे। मैंने बड़ी मुश्किलों से काग़ज़-पेंसिल मुहय्या करके जरजी को एक ख़त लिखा था और फग्गू के ज़रिये से उस तक भेजवाया था कि वो मुझे किसी न किसी तरह दस रुपये भेज दे। फग्गू अनपढ़ था। शाम को वो मुझसे मिला। जरजी का रुक़्क़ा उसने मुझे दिया। उसमें दस रुपये का सुर्ख़ पाकिस्तानी नोट क़ैद था। मैंने रुक़्क़ा पढ़ा। यह लिखा था, रिज़वी प्यारे, दस रुपये भेज तो रहा हूँ, मगर एक आदी चोर के हाथ, ख़ुदा करे तुम्हें मिल जाएँ क्योंकि यह कल ही जेल से रिहा होकर जा रहा है। मैंने यह तहरीर पढ़ी तो फग्गू भंगी की तरफ़ देखकर मुस्कुराया। उसको साढे़ तीन आने चुराने के जुर्म में एक बरस की सज़ा हुई थी। मैं सोचने लगा अगर उसने दस रुपये चुराए होते तो साढे़ तीन आने फ़ी बरस के हिसाब से उसको क्या सज़ा मिलती?”

यह कहकर रिज़वी ने कॉफ़ी का आख़िरी घूँट पिया और रुख़सत माँगे बगै़र कॉफ़ी हाऊस से बाहर चला गया।

मंटो की कहानी 'नंगी आवाज़ें'

मंटो की किताब यहाँ ख़रीदें:

Previous articleकविताएँ: जून 2021
Next article‘अब्बास : व्यक्तित्व और कला’ — ख़्वाजा अहमद अब्बास से कृश्न चन्दर की बातचीत
सआदत हसन मंटो
सआदत हसन मंटो (11 मई 1912 – 18 जनवरी 1955) उर्दू लेखक थे, जो अपनी लघु कथाओं, बू, खोल दो, ठंडा गोश्त और चर्चित टोबा टेकसिंह के लिए प्रसिद्ध हुए। कहानीकार होने के साथ-साथ वे फिल्म और रेडिया पटकथा लेखक और पत्रकार भी थे। अपने छोटे से जीवनकाल में उन्होंने बाइस लघु कथा संग्रह, एक उपन्यास, रेडियो नाटक के पांच संग्रह, रचनाओं के तीन संग्रह और व्यक्तिगत रेखाचित्र के दो संग्रह प्रकाशित किए।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here