वो लोग जो सरकार में हैं, या सरकार खुद को मानते हैं,

जीतने के बाद..
न ही जनता की सुनते कभी फिर, न ही जनता को जानते हैं,
समस्यायें ढेर सारी निराकरण मिलता नहीं,
जीतने के बाद नेता,जनता की सुनता नहीं,
युवा बेरोजगार हैं, पढ़ा-लिखा बेकार है,
मिलता न रोजगार हैं, ऐसे नेता और सरकार हैं,
झूठे वादे, घोषणाएं करते है लाखों मगर,
लोग भूखें मर रहें हैं, बेअसर सरकार हैं,
किसानों को लालच देकर करती झूठे वायदे,
जीतने के बाद सारे भूल जाती कायदें,
देखती सरकार केवल सिर्फ अपने फायदे,
कुर्सी पे बैठा हुआ हर नेता गद्दार है,
जनता को गुमराह करके चला रहा सरकार है,
लाखों समस्याओं से, जूझती हैं जनता इस देश में,
नेताजी तो ऐश करते घूमते हैं विदेश में,
डबल चेहरें हर नेताओं के हैं इस देश में,
छल रहे हैं सिर्फ जनता को नेताओं के भेष में,
जुमलेबाज, भ्रष्टाचारी ऐसे नेता को धिक्कार हैं,
जनता की न मदद करती कोई भी सरकार हैं,
पाँच सालों बाद,
आती फिर जनता की याद,
करते है फिर बातें और वादे इस बार होगा बदलाव,
बस करिये इस बार सहयोग और जिताइये चुनाव,
भर-भर के परोसते हैं फिर सबको शाही पुलाव,
अब ऐसे नेताओं से बचना जो भ्रष्ट और लाचार हैं,
वोट देना उसको ही जो सच्चा,अच्छा समझदार हैं,
मतदान के लिये..
जागो जनता, दिखाओं क्षमता होकर नक्कालों से सावधान,
अपना अधिकार जान,अच्छे नेता की कर पहचान, इस बार करो सभी मतदान..
Previous articleआइए मरुभूमि में उद्यान की चर्चा करें
Next articleचलने दो
शिवांकित तिवारी 'शिवा'
Young Poet, Writer and Motivational Speaker! Medical Student By Profession!

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here