‘Sair Sapata’, Hindi Poem for Kids by Aarsi Prasad Singh

कलकत्ते से दमदम आए
बाबू जी के हमदम आए
हम वर्षा में झमझम आए
बर्फी, पेड़े, चमचम लाए।

खाते-पीते पहुँचे पटना
पूछो मत पटना की घटना
पथ पर गुब्बारे का फटना
ताँगे से बेलाग उलटना।

पटना से हम पहुँचे राँची
राँची में मन मीरा नाची
सबने अपनी किस्मत जाँची
देश-देश की पोथी बाँची।

राँची से आए हम टाटा
सौ-सौ मन का लो काटा
मिला नहीं जब चावल आटा
भूल गए हम सैर सपाटा!

यह भी पढ़ें:

दिनकर की कविता ‘चाँद का कुर्ता’
देवीप्रसाद सिंह ‘कुसुमाकर’ की कविता ‘दादा का मुँह’
रामनरेश त्रिपाठी की कविता ‘चतुर चित्रकार’
दामोदर सहाय ‘कवि किंकर’ की कविता ‘मोर बिचारे’

Recommended Book:

Previous articleजामुन का पेड़
Next articleमैं मार दी जाऊँगी
आरसी प्रसाद सिंह
मैथिली और हिन्दी के महाकवि आरसी प्रसाद सिंह (१९ अगस्त १९११ - नवम्बर १९९६) रूप, यौवन और प्रेम के कवि के रूप में विख्यात थे। बिहार के चार नक्षत्रों में वियोगी के साथ प्रभात और दिनकर के साथ आरसी सदैव याद किये जायेंगे।

1 COMMENT

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here