समाज

कल एक प्राणी से मुलाक़ात हुई
जब मैंने उससे उसका नाम पूछा
तो उसने कहा- ‘समाज’
प्राणी इसलिए कहा
क्योंकि उसकी शक्ल और हरकतें
मानवों से तो नहीं मिलती थीं
सम्वेदनाओं से शून्य था
मान्यताओं से बेशर्म

देह भी उसने कुछ अजीब सी पायी थी
सारे शरीर पर केवल मुँह ही मुँह थे
कान नहीं थे, दो मुँह थे
कुछ भी सुनता नहीं था
आँखें नहीं थी, दो और मुँह थे
कुछ भी देखता नहीं था
हाथ नहीं थे, उनकी जगह भी मुँह थे
कुछ भी करता नहीं था
यहाँ तक कि उसकी टाँगों के बीच भी केवल एक मुँह ही था
तभी तो उसके दो बेटे
जो रूढ़ियों के प्रसव से पैदा होकर
प्रतिष्ठाओं के पालने में पले थे
दो भाषण सरीखे खड़े थे
नवसंस्कृति की नींव में स्तम्भ बनने
और मुझ जैसे मूल्यहीन इंसान को
अपने नीचे दबा देने को आतुर

मैंने मुँह फेर लिया
मेरे पास केवल एक ही मुँह था
जिससे मुझे कविताएँ सुनानी थीं..।

यह भी पढ़ें: पुनीत कुसुम की कविता ‘आवाज़ें’