‘Samlaingik’, a poem by Puneet Kusum

जब भी सोचा
अपनी किसी कविता में
तुम्हें लिखूँ
तुम्हारी और मेरी भिन्नता
क़लम और काग़ज़ के बीच
एक बाधा बन खड़ी रही

कोई भी विचार
जो ख़ुद को
तुम-सा सोचकर नहीं लिख पाया
निरर्थक लगा

कोई भी पंक्ति
जो एक वृत्त की परिधि में
ढलती नज़र नहीं आयी
अधूरी छोड़ दी

मुझे और तुम्हें
पृथक करता अल्पविराम
दर्पण का रूप न ले सका
तो शब्दों के बीच के ठहराव
नकार दिए मैंने

मैं अपनी परिभाषा
तब तक बदलता रहा
जब तक मेरा कथ्य
तुम्हें परिभाषित करते किसी छंद के साथ
कोरस न गाने लगे

यदि वार्तालाप
दो हृदयों में होता सम्भोग है
तो इस कविता के
सारे उपमान
और सभी प्रतीक
तभी सार्थक होंगे
जब तुम्हारे और मेरे
मन के भाव
समलैंगिक हों…।

यह भी पढ़ें: पुनीत कुसुम की कविता ‘आधुनिक द्रोणाचार्य’

Recommended Book:

Previous articleबंदर और मदारी
Next articleसुधीर रंजन सिंह कृत ‘कविता की समझ’
पुनीत कुसुम
कविताओं में स्वयं को ढूँढती एक इकाई..!

2 COMMENTS

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here