किसे खोजने निकल पड़ी हो
जाती हो तुम कहाँ चली
ढली रंगतों में हो किसकी
तुम्हें छल गया कौन छली।

क्यों दिन–रात अधीर बनी–सी
पड़ी धरा पर रहती हो
दु:सह आतप शीत–वात सब
दिनों किस लिये सहती हो।

कभी फैलने लगती हो क्यों
कृश तन कभी दिखाती हो
अंग–भंग कर–कर क्यों आपे
से बाहर हो जाती हो।

कौन भीतरी पीड़ाएँ
लहरें बन ऊपर आती हैं
क्यों टकराती ही फिरती हैं
क्यों काँपती दिखाती है।

बहुत दूर जाना है तुमको
पड़े राह में रोड़े हैं
हैं सामने खाइयाँ गहरी
नहीं बखेड़े थोड़े हैं।

पर तुमको अपनी ही धुन है
नहीं किसी की सुनती हो
काँटों में भी सदा फूल तुम
अपने मन के चुनती हो।

उषा का अवलोक वदन
किस लिये लाल हो जाती हो
क्यों टुकड़े–टुकड़े दिनकर की
किरणों को कर पाती हो।

क्यों प्रभात की प्रभा देखकर
उर में उठती है ज्वाला
क्यों समीर के लगे तुम्हारे
तन पर पड़ता है छाला।

■■■

Previous articleमुझे कहना है
Next articleमन का पुरुष
अयोध्या सिंह उपाध्याय ‘हरिऔध’
अयोध्यासिंह उपाध्याय 'हरिऔध' (15 अप्रैल, 1865-16 मार्च, 1947) हिन्दी के एक सुप्रसिद्ध साहित्यकार थे। वे दो बार हिंदी साहित्य सम्मेलन के सभापति रह चुके हैं और सम्मेलन द्वारा विद्यावाचस्पति की उपाधि से सम्मानित किये जा चुके हैं। 'प्रिय प्रवास' हरिऔध जी का सबसे प्रसिद्ध और महत्वपूर्ण ग्रंथ है। यह हिंदी खड़ी बोली का प्रथम महाकाव्य है और इसे मंगला प्रसाद पारितोषित पुरस्कार प्राप्त हो चुका है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here