‘Sathi Ke Naam’, a poem by Suraj Ranjan Taransh

सैंकड़ों एकड़ में
बिछी धान की हरी चादर
कितना सुकून देती है आँखों को,
सरिया के जंगलों में
एक अरसा बिताने के बाद
महसूस किया है न तुमने

सुनो साथी,
जब भी मैं देखता हूँ तुम्हें
जंग लगे लोहे के जंगलों में
सुकूँ मिलता है मेरी आँखों को
धान की चादर की तरह ही।

हँसी तुम्हारी लगती है
धान की चटकती बालियों-सी
और खिल उठता हूँ मैं हर दफ़ा
जब-जब तुम हँसती हो
खिलखिलाकर

मैं चाहता हूँ
तुम हँसती रहो मुसलसल
और चटकती रहे ये बालियाँ
क्योंकि,
ये बालियाँ जीवन देती हैं।

Previous articleमैंने कभी चिड़िया नहीं देखी
Next articleसलमबाई
सूरज तारांश
साहित्य का विद्यार्थी जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय(JNU) नई दिल्ली चित्रकला,फोटोग्राफी और कविता में रुचि ईमेल- [email protected]

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here