कविता संग्रह ‘लौटा है विजेता’ से

झुनिया को चर्राया
इज़्ज़त का सौख
बड़के मालिक की
उतरन का कुरता
देखने में चिक्कन
बरतने में फुसफुस
नाप में भी छोटा
कंधे पर
छाती पर
कसता
बड़ी ज़िद और जतन से
महँगू को पहनाया।
मुश्किल है महँगू को
अब साँस लेना भी।

झुनिया ने महँगू की
एक नहीं मानी।
साँस वाँस रखी रहे
इज़्ज़त की ठानी।
एड़ी से चोटी तक
अंगों पर ढाँप ली
चादर पुरानी
जीते जी पगली ने
ओढ़ लिया कफ़न
कोठरी में घुसकर
कुण्डी चढ़ा ली।

देहरी के पार अब
झाँकेगी न भूलकर
कोठरी के भीतर का
राजपाट देखेगी
मलकिन की तरह ख़ुद
पियराती जाएगी
जाने इस इज़्ज़त को
ले के क्या पाएगी।

इज़्ज़त की नाप
बहुत छोटी है झुनिया
झरोखा न खिड़की
न दिन है न दुनिया
अपने क़द को तो देख ज़रा
छत से भी ऊँचा है
कितना सिकोड़ेगी हाथ-पाँव अपने
गर्दन को पैरों तक
कैसे झुकाएगी, कब तक दोहराएगी
सीधी सतर पीठ को, मलकिन की
हारी थकी झुकी हुई दीठ को।

उठ कुण्डी खोल दे
बाहर निकल आ।

अर्चना वर्मा की कविता 'न कुछ चाहकर भी'

Book by Archana Verma:

Previous articleसंसार पुस्तक है
Next articleबहुत कठिन है डगर पनघट की
अर्चना वर्मा
जन्म : 6 अप्रैल 1946, इलाहाबाद (उत्तर प्रदेश) भाषा : हिंदी विधाएँ : कविता, कहानी, आलोचना मुख्य कृतियाँ कविता संग्रह : कुछ दूर तक, लौटा है विजेता कहानी संग्रह : स्थगित, राजपाट तथा अन्य कहानियाँ आलोचना : निराला के सृजन सीमांत : विहग और मीन, अस्मिता विमर्श का स्त्री-स्वर संपादन : ‘हंस’ में 1986 से लेकर 2008 तक संपादन सहयोग, ‘कथादेश’ के साथ संपादन सहयोग 2008 से, औरत : उत्तरकथा, अतीत होती सदी और स्त्री का भविष्य, देहरि भई बिदेस संपर्क जे. 901, हाई बर्ड, निहो स्कॉटिश गार्डन, अहिंसा खंड-2, इंदिरापुरम, गाजियाबाद

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here