शम्स धीरे धीरे जलाता है
सुबह को
शाम तलक
और राख कर देता है…
और उड़ाता है
उसकी राख आसमान में
और रात हो जाती है
राख से निकलते सफेद धुएं से
चाँद बन जाता है
हर रोज़…
लेकिन कभी कभी कोई
राख पे पानी डाल जाता है
और चाँद नहीं निकलता
सियाह रात होती है तब
कभी कभी..

Previous articleमौत के फ़रिश्ते हड़ताल पर हैं
Next articleशब्द

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here