शोक-गीत

‘Shok Geet’, a poem by Archana Verma

फूलों में फूटकर
गाती है लता
पतझड़ का शोक-गीत
और तुम कहते हो
वसंत है

फूटने के बाद बस
फूल ही दिखता है
या थरथराती हुई टहनी पर
थिरकती हुई कोंपल,
ऐठंते हुए रेशों को छेदकर
भेदकर सुन्न हुई शिराओं को
ठिठककर रह गयी थी जो चीख़ अनसुनी
छाल की सतह के ठीक नीचे
फूटने के पहले ही
गीत बन जाती है
और तुम कहते हो
वसंत है

तुम्हारी दुनिया में
मौसम से डरती हैं चीज़ें
अक्सर बदल लेती हैं
नाम,
रोना और गाना तो
पहले भी
बहुत अलग नहीं थे यहाँ,
अब तुम क्या जानो
उस आग का अंज़ाम
जो पहले पानी में पिघलती है
फिर खिलती है
और तुम देखकर भी
पहचान नहीं पाते
यहाँ आग है
फूल को देखकर
बस पानी तक जाते हो
वहीं ठिठक जाते हो
मंत्र की तरह जपते हुए –
आग आग आग

उस दिन क्या करोगे तुम
जल्दी ही जो आने को है
तुम्हारी दुनिया में?
जब मौसम के डर से
चीज़ों की शक्ल भी बदल जायेगी
तब भी क्या पानी पर
ठिठके रह जाओगे? या फ़िर
यह गुत्थी तुमको सुलझाएगी?
तुम भी तब
फूलों के फूटने का ज़िक्र करके
सुनाओगे आग की दास्तान
और लता की कथा को दोहराओगे

तब तक लता अकेली है।

यह भी पढ़ें: अर्चना वर्मा की कविता ‘बचपन की कहानियों का राजकुमार’

Recommended Book: