1

ठर्रा के पलीता ने
आग लगा दी ग़ुस्से की भट्टी में
मज़दूर ने पहली बार ज़ुबान खोली
‘पल-पल का हिसाब लूँगा हरामियों से।’

2

लोकतंत्र में एक जम्बूरा ठोकतंत्र का
दिखता दूजा भोगतंत्र का
और तीसरा ढोकतंत्र का
किन्तु नहीं है लोक-मदारी ठोसतंत्र का।

3

दर्ज़न-भर से ज़्यादा निकले पत्र
घोषणाओं के फिर से
नारों के नक्कारालय में
सुनें कौन जनता की तूती।

4

हरी दूब की नोंक चूम
चींटी उतरी हौले धरती पर
देख चुकी जैसे संसार।

5

कुसुम-कली ने कहा सखी से
‘अभी न खिलना, शीत भोर है
ठिठुरायी है स्वयं धूप भी।’

6

बाहर तेज़ हवा हड़कम्पी
साथी, चलें टहलने
माथा गरम हमारा।

7

बहुत बहस हो चुकी दोस्त
अब अपच हो रहा
देखें उन बच्चों की मस्ती।

8

भाई, दूर सोचकर संध्या
ओढ़ दुपहरी
देख, नींद में स्वप्न भोर के।

9

रात अमावस, वीराने की थी तन्हाई
जिसने मुझको गले लगाया
होगा वह क्या मेरे जैसा?

हरिराम मीणा की अन्य क्षणिकाएँ
प्रस्तुत क्षणिकाएँ अनुज्ञा बुक्स से प्रकाशित ‘आदिवासी जलियाँवाला एवं अन्य कविताएँ’ से ली गई हैं।
Previous articleप्यार करो
Next articleमन्नू भण्डारी – ‘महाभोज’
हरिराम मीणा
सुपरिचित कवि व लेखक।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here