सुबह की ताज़ा हवा की तरह आती है एक स्त्री
आती है एक स्त्री आँधी की तरह
उमस और घुटन की तरह आती है एक स्त्री।

पत्ती की थरथराहट की तरह आती है एक स्त्री
एक स्त्री धूप की गर्माहट की तरह
चाँदनी की चुप्पी की तरह आती है एक स्त्री।

परछाई की तरह आती है एक स्त्री उजालों में केवल
एक स्त्री आती है हँसी की तरह अच्छे दिनों में
बुरे दिनों में बैचेनी की तरह आती है एक स्त्री।

तुम्हारी तरह नहीं आती है कोई स्त्री
अपने अंदाज़ में ठीक-ठीक
अपने अंदाज़ में स्त्री का आना
ईश्वरी हो जाना है।

ईश्वरी पूजित हो सकती है केवल
प्यार नहीं कर सकती है किसी को वह
प्यार करने वाली ईश्वरी की हत्या कर देती है दुनिया।

Recommended Book:

Previous articleबहुत पहले से उन क़दमों की आहट जान लेते हैं
Next articleशरणकुमार लिम्बाले – ‘अक्करमाशी’

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here