स्त्री से बात करने के लिए
निश्चित तौर पर
तुम में होना चाहिए सलीक़ा

फिर सीखो
उसे सुनते जाना
उसकी चुप्पी के आयाम तक
कभी आज़माओ
ख़ुद भी बातें बनाना
कभी चुप हो जाना

स्त्रियाँ परखती हैं
कभी-कभी सिरे तोड़कर
मध्य की सुदृढ़ता
तो साफ़ नीयत रख
तुम्हें आना चाहिए
समुद्री यात्रा में
तारे पहचान रास्ता निकालना

जैसे एक दिन
अच्छी-ख़ासी, आत्मीय बतकही के बाद
वह कहे
कि अब उसे चलानी है साइकिल, स्कूटी या कार
या जाना है कहीं पैदल या पंखों पर सवार
तो तुम अलविदा कहकर चुप रहोगे
कुछ दिन
या ख़ूब दिन

जब दोबारा करनी हो बात
तो शुरुआत कर सकते हो
यह पूछने से
कि उस दिन से अब तलक
कैसा चल रहा सफ़र!

देवेश पथ सारिया की कविता 'ईश्वर (?) को नसीहत'

Recommended Book:

देवेश पथ सारिया
कवि-लेखक एवं अनुवादक। पुरस्कार— भारत भूषण अग्रवाल पुरस्कार (2023) प्रकाशित पुस्तकें— कविता संग्रह: नूह की नाव : साहित्य अकादेमी, दिल्ली से; A Toast to Winter Solstice. कथेतर गद्य: छोटी आँखों की पुतलियों में (ताइवान डायरी)। अनुवाद: हक़ीक़त के बीच दरार : ली मिन-युंग की कविताएँ; यातना शिविर में साथिनें : जाॅन गुज़लाॅव्स्की की कविताएँ। अन्य भाषाओं में अनुवाद/प्रकाशन: कविताओं का अनुवाद अंग्रेज़ी, मंदारिन चायनीज़, रूसी, स्पेनिश, बांग्ला, मराठी, पंजाबी और राजस्थानी भाषा-बोलियों में हो चुका है। इन अनुवादों का प्रकाशन लिबर्टी टाइम्स, लिटरेरी ताइवान, ली पोएट्री, यूनाइटेड डेली न्यूज़, स्पिल वर्ड्स, बैटर दैन स्टारबक्स, गुलमोहर क्वार्टरली, बाँग्ला कोबिता, इराबोती, कथेसर, सेतु अंग्रेज़ी, प्रतिमान पंजाबी और भरत वाक्य मराठी पत्र-पत्रिकाओं में हुआ है। हिंदी की लगभग सभी महत्वपूर्ण पत्र-पत्रिकाओं में रचनाओं का निरंतर प्रकाशन।