Tag: Ashant

Books

किताबें

कुछ किताबें पढ़कर किसी को कुछ किताबें दी थीं उनके कुछ ही पन्ने पलटे गये हैं मैंने कुछ और अर्थ निकाले उसने कुछ और; जीवन में सब परस्पर नहीं...

बात

नहीं बीतती अब ये लम्बी रात नैना मुझसे कर लो कुछ बात जब आ जाऊँ मैं संग तुम्हारे साथ थिरकाओ चाँद के आगे अपना हाथ गोरी उंगलियाँ चले...
कॉपी नहीं, शेयर करें! ;)