Tag: Capitalism

Market, Capitalism

बाज़ार का हँसना लाज़िम है

सब कुछ बाज़ार का हिस्सा है ख़रीदी जा रही हर चीज़ के बदले चुकायी जा रही है एक क़ीमतकिस स्वेटर में कितनी गर्माहट हो यह ग्राहक को...
Rahul Sankrityayan

तुम्हारी जोंकों की क्षय

जोंकें? — जो अपनी परवरिश के लिए धरती पर मेहनत का सहारा नहीं लेतीं। वे दूसरों के अर्जित ख़ून पर गुज़र करती हैं। मानुषी...
Fahmida Riaz

इस गली के मोड़ पर

इस गली के मोड़ पर इक अज़ीज़ दोस्त ने मेरे अश्क पोंछकर आज मुझसे ये कहा— यूँ न दिल जलाओ तुम लूट-मार का है राज जल रहा है कुल...
Shailendra

इतिहास

खेतों में, खलिहानों में मिल और कारख़ानों में चल-सागर की लहरों में इस उपजाऊ धरती के उत्तप्त गर्भ के अन्दर कीड़ों से रेंगा करते वे ख़ून पसीना करते!वे अन्न-अनाज उगाते वे...
Adam Gondvi

तुम्हारी फ़ाइलों में गाँव का मौसम गुलाबी है

तुम्हारी फ़ाइलों में गाँव का मौसम गुलाबी है मगर ये आँकड़ें झूठे हैं, ये दावा किताबी हैउधर जम्हूरियत का ढोल पीटे जा रहे हैं वो इधर...
Manbahadur Singh

बैल-व्यथा

तुम मुझे हरी चुमकार से घेरकर अपनी व्यवस्था की नाँद में जिस भाषा के भूसे की सानी डाल गए हो— एक खूँटे से बँधा हुआ अपनी नाथ को चाटता...
Ali Sardar Jafri

निवाला

'Niwala', a nazm by Ali Sardar Jafriमाँ है रेशम के कारख़ाने में बाप मसरूफ़ सूती मिल में है कोख से माँ की जब से निकला है बच्चा...
Baba Nagarjuna

मन करता है

'Man Karta Hai', a poem by Baba Nagarjunमन करता है : नंगा होकर कुछ घण्टों तक सागर-तट पर मैं खड़ा रहूँ यों भी क्या कपड़ा मिलता...
Smiling Man, Gamchha, Village, Labour

जिसके संग बाज़ार हो लिया

'Jiske Sang Bazar Ho Liya' a poem by Shiva जिसके संग बाज़ार हो लिया उसका बेड़ा पार हो लिया नौ सौ चूहे खाकर बिल्ला हज को फिर तैयार हो...

दस का पुराना नोट

उम्र यही कोई साठ साल रही होगी। रंग सांवला और बाल पूरे सफेद हो चुके थे। पान खाती थी और पूरे ठसक से चलती...
Rickshaw

बारगेनिंग

"आज एक रिक्शेवाले को सबक सिखा दिया। मुझसे पैसे ऐंठ रहा था, लेकिन मैंने भी उसे रख कर झाड़ दिया कि मैं भी यहीं का हूँ, सब जानता हूँ और बस बीस रुपये में उसे वापस भेज दिया।"

STAY CONNECTED

42,110FansLike
20,941FollowersFollow
29,095FollowersFollow
1,850SubscribersSubscribe

RECENT POSTS

Magnus Grehn

स्वीडिश कवि मैगनस ग्रेन की कविताएँ

अनुवाद: पंखुरी सिन्हा आंधी के बाद सेंट फ़ेगंस जाने की राह में एम 4 पर हमारी गाड़ी दौड़ गई वेल्स के बीचों-बीच सेंट फ़ेगंस की ओर आंधी के बाद...
Naomi Shihab Nye

नेओमी शिहैब नाय की कविता ‘प्रसिद्ध’

नेओमी शिहैब नाय (Naomi Shihab Nye) का जन्म सेंट लुइस, मिसौरी में हुआ था। उनके पिता एक फ़िलिस्तीनी शरणार्थी थे और उनकी माँ जर्मन...
Shehar Se Dus Kilometer - Nilesh Raghuwanshi

किताब अंश: ‘शहर से दस किलोमीटर’ – नीलेश रघुवंशी

'शहर से दस किलोमीटर' ही वह दुनिया बसती है जो शहरों की न कल्पना का हिस्सा है, न सपनों का। वह अपने दुखों, अपने...
Shri Vilas Singh

श्रीविलास सिंह की कविताएँ

सड़कें कहीं नहीं जातीं सड़कें कहीं नहीं जातीं वे बस करती हैं दूरियों के बीच सेतु का काम, दो बिंदुओं को जोड़तीं रेखाओं की तरह, फिर भी वे पहुँचा देती...
Ret Samadhi - Geetanjali Shree

गीतांजलि श्री – ‘रेत समाधि’

गीतांजलि श्री का उपन्यास 'रेत समाधि' हाल ही में इस साल के लिए दिए जाने वाले बुकर प्राइज़ के लिए चयनित अन्तिम छः किताबों...
Tom Phillips

टॉम फ़िलिप्स की कविताएँ

अनुवाद: पंखुरी सिन्हा युद्ध के बाद ज़िन्दगी कुछ चीज़ें कभी नहीं बदलतीं बग़ीचे की झाड़ियाँ हिलाती हैं अपनी दाढ़ियाँ बहस करते दार्शनिकों की तरह जबकि पैशन फ़्रूट की नारंगी मुठ्ठियाँ जा...
Javed Alam Khan

जावेद आलम ख़ान की कविताएँ

तुम देखना चांद तुम देखना चांद एक दिन कविताओं से उठा ज्वार अपने साथ बहा ले जाएगा दुनिया का तमाम बारूद सड़कों पर क़दमताल करते बच्चे हथियारों को दफ़न...
Shyam Bihari Shyamal - Sangita Paul - Kantha

श्यामबिहारी श्यामल जी के साथ संगीता पॉल की बातचीत

जयशंकर प्रसाद के जीवन पर केंद्रित उपन्यास 'कंथा' का साहित्यिक-जगत में व्यापक स्वागत हुआ है। लेखक श्यामबिहारी श्यामल से उपन्यास की रचना-प्रकिया, प्रसाद जी...
Shaheen Bagh - Bhasha Singh

किताब अंश: शाहीन बाग़ – लोकतंत्र की नई करवट

भाषा सिंह की किताब 'शाहीन बाग़ : लोकतंत्र की नई करवट' उस अनूठे आन्दोलन का दस्तावेज़ है जो राजधानी दिल्ली के गुमनाम-से इलाक़े से...
Woman with dupatta

सहेजने की आनुवांशिकता में

कहीं न पहुँचने की निरर्थकता में हम हमेशा स्वयं को चलते हुए पाते हैं जानते हुए कि चलना एक भ्रम है और कहीं न पहुँचना यथार्थदिशाओं के...
कॉपी नहीं, शेयर करें! ;)