Tag: Fear

Haruki Murakami

हारुकी मुराकामी की कहानी ‘सातवाँ आदमी’

कहानी: 'सातवाँ आदमी' लेखक: हारुकी मुराकामी जापानी से अनुवाद: क्रिस्टोफ़र एलिशन हिन्दी अनुवाद: श्रीविलास सिंह"वह मेरी उम्र के दसवें वर्ष के दौरान सितम्बर का एक अपराह्न था...
Pankaj Singh

मध्यरात्रि

मध्यरात्रि में आवाज़ आती है 'तुम जीवित हो?' मध्यरात्रि में बजता है पीपल ज़ोर-ज़ोर से घिराता-डराता हुआपतझड़ के करोड़ों पत्ते मध्यरात्रि में उड़ते चले आते हैं नींद की...
Mithileshwar

बारिश की रात

आरा शहर। भादों का महीना। कृष्ण पक्ष की अँधेरी रात। ज़ोरों की बारिश। हमेशा की भाँति बिजली का गुल हो जाना। रात के गहराने...
Stone Faced Woman

भय

बेरौनक़ रहता है अब वो चेहरा अक्सर ईश्वर की अक़ीदत में हो जाते थे सुर्ख़ जिसके गाल कभीएक अजीब भय में तब्दील होने लगती हैं उसकी...
Noon Meem Rashid

ज़िन्दगी से डरते हो

ज़िन्दगी से डरते हो! ज़िन्दगी तो तुम भी हो, ज़िन्दगी तो हम भी हैं! ज़िन्दगी से डरते हो? आदमी से डरते हो आदमी तो तुम भी हो, आदमी...
War, Blood, Mob, Riots

निशान, डर

निशान वहाँ से तुम्हारे जाने के बाद, एक घटना दो तरीक़े से घटी।प्रेमियों ने कहा, तुम्हारे द्वारा छोड़े गए निशान तुम्हारे पाँवों के हैं गिरमिटियों ने कहा, तुम्हारे जूतों के...
Ekta Prakash

एकता प्रकाश की कविताएँ

Poems: Ekta Prakash डर जब आप किसी अपने को खोने से डरते हैं भय आपको खाता है, ख़ामोशी आकर चुपके-से ओठों को सील जाती है, गूँगा बनना आपके लिए उस वक़्त बेहतर...
Shahbaz Rizvi

डर लगता है

'Dar Lagta Hai', a nazm by Shahbaz Rizviजागती आँखें नींद से बोझल ख़्वाब की जुम्बिश सर्द हवाएँ काली रातें डर लगता था... डर लगता है!सुबह की किरणें रेंगते बादल ओस के...
Stay Away, Fear, Phobia

फ़ोबिया

'Phobia', a poem by Mukesh Kumar Sinhaजब भी उछालो सिक्का तो दिखने वाला हेड या टेल ही होता है विजयी नहीं नजर आ पाता छिपा हुआ...

भराव

भय इतना व्याप्त हो गया है कि आदमी शरण लेने के लिए तलाशता है ऐसा कोई गुप्त स्थान जहाँ नहीं पहुँच पाती कोई रोशनी। आदमी पहुँच जाता है एक...

STAY CONNECTED

38,332FansLike
19,561FollowersFollow
27,906FollowersFollow
1,660SubscribersSubscribe

RECENT POSTS

Abstract, Time

चींटी और मास्क वाले चेहरे

स्वप्न में दिखती है एक चींटी और मास्क वाले चेहरे चींटी रेंगती है पृथ्वी की नाल के भीतर मास्क वाले चेहरे घूमते हैं भीड़ मेंसर से...
Abstract, Woman

जीवन सपना था, प्रेम का मौन

जीवन सपना था आँखें सपनों में रहीं और सपने झाँकते रहे आँखों की कोर से यूँ रची हमने अपनी दुनिया जैसे बचपन की याद की गईं कविताएँ हमारा दुहराया...
Kedarnath Singh

फ़र्क़ नहीं पड़ता

हर बार लौटकर जब अन्दर प्रवेश करता हूँ मेरा घर चौंककर कहता है 'बधाई'ईश्वर यह कैसा चमत्कार है मैं कहीं भी जाऊँ फिर लौट आता हूँसड़कों पर परिचय-पत्र माँगा...
Naveen Sagar

वह मेरे बिना साथ है

वह उदासी में अपनी उदासी छिपाए है फ़ासला सर झुकाए मेरे और उसके बीच चल रहा हैउसका चेहरा ऐंठी हुई हँसी के जड़वत् आकार में दरका है उसकी आँखें बाहर...
Nurit Zarchi

नूइत ज़ारकी की कविता ‘विचित्रता’

नूइत ज़ारकी इज़राइली कवयित्री हैं जो विभिन्न साहित्य-सम्बन्धी पुरस्कारों से सम्मानित हैं। प्रस्तुत कविता उनकी हीब्रू कविता के तैल गोल्डफ़ाइन द्वारा किए गए अंग्रेज़ी...
Sunset

कितने प्रस्थान

सूरज अधूरी आत्महत्या में उड़ेल आया दिन-भर का चढ़ना उतरते हुए दृश्य को सूर्यास्त कह देना कितना तर्कसंगत है यह संदेहयुक्त है अस्त होने की परिभाषा में कितना अस्त हो जाना दोबारा...
Naresh Mehta

कवच

मैं जानता हूँ तुम्हारा यह डर जो कि स्वाभाविक ही है, कि अगर तुम घर के बाहर पैर निकालोगे तो कहीं वैराट्य का सामना न हो जाए, तुम्हें...
Vishesh Chandra Naman

मैं

मैं एक तीर था जिसे सबने अपने तरकश में शामिल किया किसी ने चलाया नहींमैं एक फूल था टूटने को बेताब सबने मुझे देखा, मेरे रंगों की तारीफ़ की और मैं...
Gaurav Bharti

कविताएँ: नवम्बर 2021

यात्री भ्रम कितना ख़ूबसूरत हो सकता है? इसका एक ही जवाब है मेरे पास कि तुम्हारे होने के भ्रम ने मुझे ज़िन्दा रखातुम्हारे होने के भ्रम में मैंने शहर...
God, Abstract Human

कौन ईश्वर

नहीं है तुम्हारी देह में यह रुधिर जिसके वर्ण में अब ढल रही है दिवा और अँधेरा सालता हैरोज़ थोड़ी मर रही आबादियों में रोज़ थोड़ी बढ़ रही...
कॉपी नहीं, शेयर करें! ;-)