Tag: Girl

Manbahadur Singh

लड़की जो आग ढोती है

हाँ... मेरी चारपाई अब खिड़की के पास कर दो जिससे दिखे वह डगर जिस पर वह लड़की सिर पर सूखी लकड़ियों का गट्ठर लिए खड़ी हरे पेड़...
Badrinarayan

चिड़िया रे

चिड़िया रे! चिड़िया होने का अर्थ फाड़ दो, मछली रे! मछली होने का अर्थ काट दो, लड़की चिन्दी-चिन्दी कर दो लड़की होने के अर्थ कोबकुल के फूल, बकुल...
Indu Jain

लड़की

गणित पढ़ती है ये लड़की हिन्दी में विवाद करती अंग्रेज़ी में लिखती है मुस्कुराती है जब भी मिलती है ग़लत बातों पर तनकर अड़ती खुला दिमाग़ लिए ज़िन्दगी से निकलती है ये लड़कीअगर...
Nida Fazli

एक लड़की

काव्य-संकलन: 'शहर से गाँव' लिप्यंतरण: आमिर विद्यार्थीवह फूल-फूल बदन साँवली-सी एक लड़की जो रोज़ मेरी गली से गुज़र के जाती है सुना है वह किसी लड़के से प्यार करती है बहार...
Manmeet Soni

घर से भागी हुई लड़की

1"तू सगे माँ-बाप की नहीं हुई मेरी क्या होगी साली!"पहले घर से भागी हुई लड़की ने दूसरा घर भी छोड़ दिया है, और तीसरा घर ढूँढ रही है..!2"रांड! अमावस के दिन...
Girl reading a book, School, Kid

लड़की चाहती है

'Ladki Chahti Hai', a poem by Pratap Somvanshiघर में काम पर लगे बढ़ई को देखकर बड़ा होकर बढ़ई बनना चाहती है लड़की ताकि वह अपने गुड्डे-गुड़िया के...
Woman Abstract

सुनो लड़की नया फ़रमान

'Suno Ladki Naya Farmaan', a poem by Amandeep Gujralऐ लड़की सुनो जब निकलो घर से एक जोड़ा कपड़ों का साथ रखना, इन दिनों एक फ़रमान जारी किया...
Baby Abortion, Female Feticide

चौथी लड़की

'Chauthi Ladki', a poem by Mridula Singhइंतजार का दिन पूर गया हर कोई देख रहा है एक-दूसरे की आँख में तैरता कुल का सवाल लड़का या लड़की? तीन पहले से...
Girl

क़स्बाई लड़की

"कई बार उसको लगता कि जैसे ये बारिश नहीं उसी की बेचैनी है, जो बादलों की ओट लेकर धरती पर बरस रही है। सच जब चारों तरफ़ ख़ुशनुमा मौसम हो, तब बेचैन होना कितनी बेचैनी भरा होता है, ये केवल वही जान सकता है जिसका दिल दफ़अतन कहीं गिर गया हो।"
Joshnaa Banerjee Adwanii

एकतरफ़ा प्रेम में लड़की

'Ektarfa Prem Mein Ladki', a poem by Joshnaa Banerjee Adwaniiबादलों पर टिका देती है ऐंठे हुए सोमवार साग के डण्ठलों में ढूँढ लेती है उसकी...
Om Purohit Kagad

वह लड़की

'Wah Ladki', a poem by Om Purohit 'Kagad'सामने के झोपड़े में रहने वाली वह लड़की अब सपने नहीं देखती।वह जानती है कि सपने में भी पुरुष की सत्ता...
Ek Ladki Ko Dekha Toh Aisa Laga

एक लड़की को देखा तो कैसा लगा?

दो लोग एक दूसरे के प्यार में पड़ते हैं, इस राह में उनके सामने कुछ कठिनाइयाँ आती हैं, मगर आखिरकार वे उन कठिनाइयों को...

STAY CONNECTED

42,085FansLike
20,941FollowersFollow
29,166FollowersFollow
1,930SubscribersSubscribe

RECENT POSTS

Vinita Agrawal

विनीता अग्रवाल की कविताएँ

विनीता अग्रवाल बहुचर्चित कवियित्री और सम्पादक हैं। उसावा लिटरेरी रिव्यू के सम्पादक मण्डल की सदस्य विनीता अग्रवाल के चार काव्य संग्रह प्रकाशित हो चुके...
Gaurav Bharti

कविताएँ: अगस्त 2022

विस्मृति से पहले मेरी हथेली को कैनवास समझ जब बनाती हो तुम उस पर चिड़िया मुझे लगता है तुमने ख़ुद को उकेरा है अपने अनभ्यस्त हाथों से।चारदीवारी और एक...
Nicoleta Crăete

रोमानियाई कवयित्री निकोलेटा क्रेट की कविताएँ

अनुवाद: पंखुरी सिन्हा औंधा पड़ा सपना प्यार दरअसल फाँसी का पुराना तख़्ता है, जहाँ हम सोते हैं! और जहाँ से हमारी नींद, देखना चाह रही होती है चिड़ियों की ओर!मत...
Daisy Rockwell - Geetanjali Shree

डेज़ी रॉकवेल के इंटरव्यू के अंश

लेखक ने अपनी बात कहने के लिए अपनी भाषा रची है, इसलिए इसका अनुवाद करने के लिए आपको भी अपनी भाषा गढ़नी होगी। —डेज़ी...
Kalam Ka Sipahi - Premchand Jeevani - Amrit Rai

पुस्तक अंश: प्रेमचंद : कलम का सिपाही

भारत के महान साहित्यकार, हिन्दी लेखक और उर्दू उपन्यासकार प्रेमचंद किसी परिचय के मोहताज नहीं हैं। प्रेमचंद ने अपने जीवन काल में कई रचनाएँ...
Priya Sarukkai Chabria

प्रिया सारुकाय छाबड़िया की कविताएँ

प्रिया सारुकाय छाबड़िया एक पुरस्कृत कवयित्री, लेखिका और अनुवादक हैं। इनके चार कविता संग्रह प्रकाशित हो चुके हैं जिनमें नवीनतम 'सिंग ऑफ़ लाइफ़ रिवीज़निंग...
aadhe adhoore mohan rakesh

आधे-अधूरे : एक सम्पूर्ण नाटक

आधे-अधूरे: एक सम्पूर्ण नाटक समीक्षा: अनूप कुमार मोहन राकेश (1925-1972) ने तीन नाटकों की रचना की है— 'आषाढ़ का एक दिन' (1958), 'लहरों के राजहंस' (1963)...
Kavita Mein Banaras

‘कविता में बनारस’ से कविताएँ

'कविता में बनारस' संग्रह में उन कविताओं को इकट्ठा किया गया है, जो अलग-अलग भाषाओं के कवियों ने अपने-अपने समय के बनारस को देख...
Kailash Manhar

डरावना स्वप्न

लम्बी कविता: डरावना स्वप्न (एक)हर रात वही डरावना सपना लगभग तीन से चार बजे के बीच आता है और रोम-रोम कँपा जाता है बहुत घबराहट के साथ पसीने-पसीने हुआ-सा...
Pervin Saket

परवीन साकेत की कविताएँ

परवीन साकेत उपन्यास 'उर्मिला' और कविता संग्रह 'ए टिंज ऑफ़ टर्मरिक' की लेखिका हैं। परवीन 'द बॉम्बे लिटरेरी मैगज़ीन' में पोएट्री एडिटर हैं और...
कॉपी नहीं, शेयर करें! ;)