Tag: heart

Naresh Saxena

तुम वही मन हो कि कोई दूसरे हो

कल तुम्हें सुनसान अच्छा लग रहा था आज भीड़ें भा रही हैं तुम वही मन हो कि कोई दूसरे हो!गोल काले पत्थरों से घिरे उस सुनसान...
Man, Sleep, Painting, Abstract, Closed Eyes, Face

तिजारत

बिक गया मन...झूठ और सच की लगी थी बोलियाँ और ख़रीदारों की थी लम्बी क़तारेंवो, जो अपनों के कभी अपने ना हुए, ग़ैर की तकलीफ़ में हमदर्द थे जोपीठ पर अपनों के करते वार लेकिन, पाँव जिनके चूमते थे सामने सेभाई, बेटा, बाप, माँ सबके बने थे...पर नहीं थे।रात की तारीकी हाथों में छुपाए जो सुबह के मुँह पे कालिख पोत देतेऔर बनकर रोशनाई के फ़रिश्ते अनगिनत दीये जलाकर झूमते थेवो सभी महँगे लिबासों में लिपटकर, चेहरे पर पहने तिरस्कारों का लहजासड़क पे बोली लगाने आ गए थे।दाम जो भी चाहिए मुँह माँगा ले लो। झूठ हमको बेच दो, सच मार डालो;और चमड़ी सच की भी बेचो हमें ही।झूठ को हम सच बनाकर बेचेंगे... व्यापार है।खेलना जज़्बात से भी एक कारोबार है।मोल भावों का नहीं कुछ, फेंक डालो।आपके जज़्बात की क़ीमत मिलेगी ...बेच डालो।सोच कुछ पल; घर में फैली भूख, बीमारी को देखा बिलबिलाती बेटी, लाचारी को देखाभावनाओं को हथेली पर सजाए आ गया बाज़ार में, सूनी आँखें मूँदकर बिकने खड़ा क़तार में।वो लगी बोली -मेरे हाथों में रखकर चन्द सपने, छीन ली उसने मेरी भावों भरी वो पोटली।मैं अभावों में घिरा-सा, मैं डरा-सा अधमरा-सा।हतप्रभ-सा मूक-सा अवाक-साहवन की समिधा, चिता की ख़ाक-सा...था खड़ा थामे विवशताओं का दामन...बिक गया मन।
Harivansh Rai Bachchan

ऐसे मैं मन बहलाता हूँ

सोचा करता बैठ अकेले, गत जीवन के सुख-दुःख झेले, दंशनकारी सुधियों से मैं उर के छाले सहलाता हूँ ऐसे मैं मन बहलाता हूँ!नहीं खोजने जाता मरहम, होकर अपने प्रति...
Woman with red scarf, Girl

उड़ता फिरता पगला मन ये

'Udta Phirta Pagal Man Yeh', a poem by Priyanki Mishraउड़ता फिरता पगला मन ये, हवा में लहराते किसी किशोरी के करारे रंगों वाले बांधनी दुपट्टे की...
Shrikant Verma

मन की चिड़िया

वह चिड़िया जो मेरे आँगन में चिल्लायी मेरे सब पिछले जन्मों की संगवारिनी-सी इस घर आयी; मैं उसका उपकार चुकाऊँ किन धानों से!हर गुलाब को जिसने मेरे...
Baba Nagarjuna

मन करता है

'Man Karta Hai', a poem by Baba Nagarjunमन करता है : नंगा होकर कुछ घण्टों तक सागर-तट पर मैं खड़ा रहूँ यों भी क्या कपड़ा मिलता...
Shamser Bahadur Singh

हमारे दिल सुलगते हैं

'Humare Dil Sulagte Hain', a poem by Shamsher Bahadur Singhलगी हो आग जंगल में कहीं जैसे, हमारे दिल सुलगते हैं।हमारी शाम की बातें लिये होती हैं...
Trilochan

खुले तुम्हारे लिए हृदय के द्वार

खुले तुम्हारे लिए हृदय के द्वार अपरिचित पास आओ! आँखों में सशंक जिज्ञासा मुक्ति कहाँ, है अभी कुहासा जहाँ खड़े हैं, पाँव जड़े हैं स्तम्भ शेष भय की परिभाषा हिलो...
Abstract, Heart, Mind, Dream

मन के पार

'Man Ke Paar', a poem by Preeti Karnश्रेष्ठतम कविता लिखना उस वक़्त सम्भव हुआ होगा जब खाई को पाटने के लिए नहीं बची रही होगी कच्ची मिट्टी की ढेर। ऊँचे टीलों की...
Ibne Insha

दिल पीत की आग में जलता है

दिल पीत की आग में जलता है, हाँ जलता रहे, उसे जलने दो इस आग से लोगों दूर रहो, ठण्डी न करो, पंखा न झलोहम...
Majaz Lakhnavi

नज़्र-ए-दिल

अपने दिल को दोनों आलम से उठा सकता हूँ मैं क्या समझती हो कि तुम को भी भुला सकता हूँ मैं कौन तुमसे छीन सकता है...
God

रिक्त मन

अंजुरी भर प्रार्थनाएँ बड़ी मुश्किल से जुटा पाती हूँ विषमता से उपजा आर्तगान! श्रद्धा के दुर्लभ पुष्प आस के तरु से सहेजकर रखती हूँ विभिन्न रंग की अनगिनत कामना के संग। हे देव! विषमता...

STAY CONNECTED

42,081FansLike
20,941FollowersFollow
29,153FollowersFollow
1,920SubscribersSubscribe

RECENT POSTS

Nicoleta Crăete

रोमानियाई कवयित्री निकोलेटा क्रेट की कविताएँ

अनुवाद: पंखुरी सिन्हा औंधा पड़ा सपना प्यार दरअसल फाँसी का पुराना तख़्ता है, जहाँ हम सोते हैं! और जहाँ से हमारी नींद, देखना चाह रही होती है चिड़ियों की ओर!मत...
Daisy Rockwell - Geetanjali Shree

डेज़ी रॉकवेल के इंटरव्यू के अंश

लेखक ने अपनी बात कहने के लिए अपनी भाषा रची है, इसलिए इसका अनुवाद करने के लिए आपको भी अपनी भाषा गढ़नी होगी। —डेज़ी...
Kalam Ka Sipahi - Premchand Jeevani - Amrit Rai

पुस्तक अंश: प्रेमचंद : कलम का सिपाही

भारत के महान साहित्यकार, हिन्दी लेखक और उर्दू उपन्यासकार प्रेमचंद किसी परिचय के मोहताज नहीं हैं। प्रेमचंद ने अपने जीवन काल में कई रचनाएँ...
Priya Sarukkai Chabria

प्रिया सारुकाय छाबड़िया की कविताएँ

प्रिया सारुकाय छाबड़िया एक पुरस्कृत कवयित्री, लेखिका और अनुवादक हैं। इनके चार कविता संग्रह प्रकाशित हो चुके हैं जिनमें नवीनतम 'सिंग ऑफ़ लाइफ़ रिवीज़निंग...
aadhe adhoore mohan rakesh

आधे-अधूरे : एक सम्पूर्ण नाटक

आधे-अधूरे: एक सम्पूर्ण नाटक समीक्षा: अनूप कुमार मोहन राकेश (1925-1972) ने तीन नाटकों की रचना की है— 'आषाढ़ का एक दिन' (1958), 'लहरों के राजहंस' (1963)...
Kavita Mein Banaras

‘कविता में बनारस’ से कविताएँ

'कविता में बनारस' संग्रह में उन कविताओं को इकट्ठा किया गया है, जो अलग-अलग भाषाओं के कवियों ने अपने-अपने समय के बनारस को देख...
Kailash Manhar

डरावना स्वप्न

लम्बी कविता: डरावना स्वप्न (एक)हर रात वही डरावना सपना लगभग तीन से चार बजे के बीच आता है और रोम-रोम कँपा जाता है बहुत घबराहट के साथ पसीने-पसीने हुआ-सा...
Pervin Saket

परवीन साकेत की कविताएँ

परवीन साकेत उपन्यास 'उर्मिला' और कविता संग्रह 'ए टिंज ऑफ़ टर्मरिक' की लेखिका हैं। परवीन 'द बॉम्बे लिटरेरी मैगज़ीन' में पोएट्री एडिटर हैं और...
Shivangi

डिस्फ़ोरिया

हम पृथ्वी की शुरुआत से स्त्री हैं सरकारें बदलती रहीं तख़्त पलटते रहे हम स्त्री रहे विचारक आए विचारक गए हम स्त्री रहे सैंकड़ों सावन आए अपने साथ हर दूषित चीज़ बहा...
Aankhein - Sara Shagufta

पहला हर्फ़

पाकिस्तानी शायरा सारा शगुफ़्ता की नज़्मों का पहला संग्रह 'आँखें' उनकी मृत्यु के बाद सन् 1985 में प्रकाशित हुआ था। हाल ही में इसी...
कॉपी नहीं, शेयर करें! ;)