Tag: Hindi poetry

Subhadra Kumari Chauhan

व्याकुल चाह

सोया था संयोग उसे किस लिए जगाने आए हो? क्या मेरे अधीर यौवन की प्यास बुझाने आए हो?रहने दो, रहने दो, फिर से जाग उठेगा वह अनुराग, बूँद-बूँद से...
Hariaudh

एक बूँद

ज्यों निकल कर बादलों की गोद से थी अभी एक बूँद कुछ आगे बढ़ी सोचने फिर-फिर यही जी में लगी, आह! क्यों घर छोड़कर मैं यों बढ़ी? देव...
Jyoti Shobha

ज्योति शोभा की कविताएँ

आमंत्रण की कला दस्तक का आधा रस किवाड़ सोख लेता है शेष आधा टपक जाता है पककर इस ऋतु ऊपर के ताखे में संकोच रखकर सोती है देह अलमारियों...
Mudit Shrivastava

पाँच कविताएँ

ख्यालों को बहने दो ख्यालों को बहने दो, बनके नदिया, किसी प्यासे तक पहुंचेंगे उड़ने दो, बनके चिड़िया आसमानों में किसी सुनसान कानों में जा के चहकेंगे.. गाँव को देखा हमने तुमने गाँव को...
Gaurav Adeeb

गौरव अदीब की नयी कविताएँ

गौरव अदीब की कुछ नयी कविताएँ 1) टाइम मशीन कविता के लिए: कई बार तुम्हारी ओर से मैंने ख़ुद को लिखा पत्र लिखीं कुछ कवितायेँ भी तुम्हारी कहानी ख़ुद...
vishesh chandra 'naman'

विशेष चंद्र ‘नमन’ की कविताएँ

मौजूदगी एक बेशकीमती दिन बचा रहता है कल के आने तक हम बांसुरी में इंतज़ार के पंख लपेट हवा को बुलाने से ज़्यादा, कुछ नहीं करते एक अनसुनी...
balkavi bairagi

बालकवि बैरागी की बाल कविताएँ

Poems: Balkavi Bairagi चाँद में धब्बा गोरे-गोरे चाँद में धब्बा दिखता है जो काला-काला, उस धब्बे का मतलब हमने बड़े मज़े से खोज निकाला। वहाँ नहीं है गुड़िया-बुढ़िया वहाँ नहीं बैठी है...
Joshnaa Banerjee Adwanii

जोशना बैनर्जी आडवानी की कविताएँ

बू मैंने एक जगह रुक के डेरा डाला मैंने चाँद सितारों को देखा मैंने जगह बदल दी मैंने दिशाओं को जाना मैं अब ख़ानाबदोश हूँ मैं नख़लिस्तानों के ठिकाने जानती...
Woman with tied child, Mother, Kid

‘माँ’ के लिए कुछ कविताएँ

'माँ' - मोहनजीत मैं उस मिट्टी में से उगा हूँ जिसमें से माँ लोकगीत चुनती थीहर नज्म लिखने के बाद सोचता हूँ- क्या लिखा है? माँ कहाँ इस...
Uday Prakash

उत्कृष्टता

'Utkrishtta', a poem by Uday Prakashसुन्दर और उत्कृष्ट कविताएँ धीरे-धीरे ले जाएँगी सत्ता की ओरसूक्ष्म सम्वेदनाओं और ख़फ़ीफ़ भाषा का कवि देखा जाएगा अत्याचारियों के भोज...
Ashok Vajpeyi

अकेले क्यों?

हम उस यात्रा में अकेले क्यों रह जाएँगे?साथ क्यों नहीं आएगा हमारा बचपन, उसकी आकाश-चढ़ती पतंगें और लकड़ी के छोटे-से टुकड़े को हथियार बना कर दिग्विजय करने का...
Tree, Leaves, Forest, Jungle

पत्ते नीम के

तालियों से बजे पत्ते नीम के।अनवरत चलती रही थी, थक गयी, तनिक आवे पर ठहरकर पक गयी, अब चढ़ी है हवा हत्थे नीम के।था बहुत कड़वा मगर था...

STAY CONNECTED

42,490FansLike
20,941FollowersFollow
29,153FollowersFollow
2,000SubscribersSubscribe

RECENT POSTS

Chen Chien-wu

चेन च्येन वू की कविताएँ

ताइवान के नांताऊ शहर में सन् 1927 में जन्मे कवि चेन च्येन वू मंदारिन, जापानी और कोरियाई भाषाओं में पारंगत कवि हैं। अपने कई...
Ekaterina Grigorova

बुल्गारियाई कवयित्री एकैटरीना ग्रिगरोवा की कविताएँ

अनुवाद: पंखुरी सिन्हा सामान्यता मुझे बाल्टिक समुद्र का भूरा पानी याद है! 16 डिग्री तापमान की अनंत ऊर्जा का भीतरी अनुशासन!बदसूरत-सी एक चीख़ निकालती है पेट्रा और उड़ जाता है आकाश में बत्तखों...
Naomi Shihab Nye

नेओमी शिहैब नाय की कविता ‘जो नहीं बदलता, उसे पहचानने की कोशिश’

नेओमी शिहैब नाय (Naomi Shihab Nye) का जन्म सेंट लुइस, मिसौरी में हुआ था। उनके पिता एक फ़िलिस्तीनी शरणार्थी थे और उनकी माँ जर्मन...
Vinita Agrawal

विनीता अग्रवाल की कविताएँ

विनीता अग्रवाल बहुचर्चित कवियित्री और सम्पादक हैं। उसावा लिटरेरी रिव्यू के सम्पादक मण्डल की सदस्य विनीता अग्रवाल के चार काव्य संग्रह प्रकाशित हो चुके...
Gaurav Bharti

कविताएँ: अगस्त 2022

विस्मृति से पहले मेरी हथेली को कैनवास समझ जब बनाती हो तुम उस पर चिड़िया मुझे लगता है तुमने ख़ुद को उकेरा है अपने अनभ्यस्त हाथों से।चारदीवारी और एक...
Nicoleta Crăete

रोमानियाई कवयित्री निकोलेटा क्रेट की कविताएँ

अनुवाद: पंखुरी सिन्हा औंधा पड़ा सपना प्यार दरअसल फाँसी का पुराना तख़्ता है, जहाँ हम सोते हैं! और जहाँ से हमारी नींद, देखना चाह रही होती है चिड़ियों की ओर!मत...
Daisy Rockwell - Geetanjali Shree

डेज़ी रॉकवेल के इंटरव्यू के अंश

लेखक ने अपनी बात कहने के लिए अपनी भाषा रची है, इसलिए इसका अनुवाद करने के लिए आपको भी अपनी भाषा गढ़नी होगी। —डेज़ी...
Kalam Ka Sipahi - Premchand Jeevani - Amrit Rai

पुस्तक अंश: प्रेमचंद : कलम का सिपाही

भारत के महान साहित्यकार, हिन्दी लेखक और उर्दू उपन्यासकार प्रेमचंद किसी परिचय के मोहताज नहीं हैं। प्रेमचंद ने अपने जीवन काल में कई रचनाएँ...
Priya Sarukkai Chabria

प्रिया सारुकाय छाबड़िया की कविताएँ

प्रिया सारुकाय छाबड़िया एक पुरस्कृत कवयित्री, लेखिका और अनुवादक हैं। इनके चार कविता संग्रह प्रकाशित हो चुके हैं जिनमें नवीनतम 'सिंग ऑफ़ लाइफ़ रिवीज़निंग...
aadhe adhoore mohan rakesh

आधे-अधूरे : एक सम्पूर्ण नाटक

आधे-अधूरे: एक सम्पूर्ण नाटक समीक्षा: अनूप कुमार मोहन राकेश (1925-1972) ने तीन नाटकों की रचना की है— 'आषाढ़ का एक दिन' (1958), 'लहरों के राजहंस' (1963)...
कॉपी नहीं, शेयर करें! ;)