Tag: Hindi Story

Manohar Shyam Joshi

उसका बिस्तर

हम लोग अपनी व्यक्तिगत पसंद और सुविधा को भुलाकर, यहाँ तक कि कभी-कभी अपना पेट काटकर भी वह काम करते हैं जो समाज में हमारा एक बेहतर व्यक्तित्व स्थापित कर दे.. हमें उन मानदंडों के अनुसार बना दे जिसपर यह समाज एक व्यक्ति को तौलता है.. लेकिन यह कितना अर्थहीन और एक स्तर पर बचकाना भी है, मनोहर श्याम जोशी की यह कहानी हमें बताती है.. पढ़िए!
Subhadra Kumari Chauhan

होली

पुरुष के लिए सही गलत की परिभाषा यही रही है कि जो वह करे, वह सही और जो उसे न करने दिया जाए, वह गलत.. और उसके लिए स्त्री ने केवल उसका कहा मानने के लिए ही जन्म लिया है.. ऐसे में स्त्री खुद्दार होने के बावजूद यदि आर्थिक रूप से अपने पति पर निर्भर हो तो उसकी स्थिति इस कहानी की 'करुणा' जैसी ही हो जाती है! पढ़िए सुभद्रा कुमारी चौहान की कहानी 'होली'!
Suryabala

एक स्त्री के कारनामे

जब आप अपने पति से पूछती हैं कि क्या वो चाय पियेंगे? तो क्या उनका जवाब होता है?- 'पी लूँगा!' या जब आपकी पत्नी आपसे बातें करने के लिए कहती हैं तो क्या बात करनी है, क्या यह भी आप उन्हीं से पूछते हैं? यदि हाँ, तो यह कहानी आपके लिए है! :) #धो_डाला
Chitra Mudgal

नतीजा

"बेवकूफ बच्चियाँ नहीं जानतीं कि उनका फेल होना मात्र उनका फेल होना भर नहीं है, उनका फेल होना... उनके मोरचे का ढहना है... वे स्वयं को कहीं रोप नहीं पाएँगी तो अँकुआएँगी कैसे...?" किसी इंसान को एक बुरे परिवेश या बुरी जगह से निकालकर उसके जीवन को सामान्यधारा में लाने की कोशिश करने के कदम तो उठ जाते हैं, लेकिन यदि उस इंसान में ही इच्छाशक्ति न हो तो वे कदम लड़खड़ा भी जल्दी ही जाते हैं.. समाज के लिए कार्य करने वालों में कितने धैर्य और आत्मबल की ज़रूरत होती है, यह कहानी बखूबी बताती है.. ज़रूर पढ़िए!
Amarkant

दोपहर का भोजन

क्या आपके घर की औरतें आपसे बात करने से डरती हैं? क्या वे हमेशा इस कोशिश में लगी रहती हैं कि घर के बाकी सदस्यों के बीच के घर्षण को किसी भी तरह दूर कर दें? आप उनके खाने में कमी निकालने में बिलकुल नहीं हिचकते, लेकिन वो आपकी आर्थिक या व्यावसायिक अक्षमता के लिए भी आपसे सवाल तक नहीं करतीं? यदि हाँ, तो एक बार यह कहानी ज़रूर पढ़िए!
Train Platform

रेल की रात

"किसी स्त्री को देखते ही अब मेरे हृदय में एक श्रद्धा-पूर्ण उत्सुकता का भाव जाग पड़ता है। ऐसा मालूम होने लगता है, जैसे अपने जीवन में पहले स्त्री को देखा भी न हो, अब पहली बार इस आनंददायिनी रहस्यमयी जाति के अस्तित्व का अनुभव मुझे हुआ हो।" #सालगिरह #IlachandraJoshi
Bhuvaneshwar

भेड़िये

"लोग कहते हैं, अकेला भेड़िया कायर होता है। यह झूठ है। भेड़िया कायर नहीं होता, अकेला भी वह सिर्फ चौकन्ना होता है। तुम कहते हो लोमड़ी चालाक होती है, तो तुम भेड़ियों को जानते ही नहीं।" 'भेड़िये' एक ऐसी कहानी है जिसे हिन्दी के साहित्यकारों ने एक लम्बे अरसे तक हिन्दी की मौलिक कहानी न मानकर, अंग्रेजी की किसी कहानी का अनुवाद माना! इस पूर्वाग्रह के पीछे एक कारण यह भी रहा कि भुवनेश्वर को अंग्रेजी साहित्य का अच्छा ज्ञान था! बाद में इसी कहानी को नयी कहानी की दिशा में पहली कहानी भी माना गया जिसने गाँव, कस्बों, शहरों और प्रेम के किस्सों से कहानी को बाहर निकाला.. घोर व्यक्तिवाद की निशानी यह कहानी लिखकर भुवनेश्वर हिन्दी साहित्य में हमेशा के लिए अमर हो गए... पढ़िए!

एक जीवी, एक रत्नी, एक सपना

'हाय री स्त्री, डूबने के लिए भी तैयार है, यदि तेरा प्रिय एक सागर हो!' 'फिर उस लड़की का भी वही अंजाम हुआ, जो उससे पहले कई और लड़कियों का हो चुका था और उसके बाद कई और लड़कियों का होना था। वह लड़की बम्बई पहुँचकर कला की मूर्ती नहीं, कला की कब्र बन गई, और मैं सोच रही थी, यह रत्नी.. यह रत्नी क्या बनेगी?'
Jaishankar Prasad

ग्राम

'ग्राम' - जयशंकर प्रसाद टन! टन! टन! स्टेशन पर घंटी बोली। श्रावण-मास की संध्या भी कैसी मनोहारिणी होती है! मेघ-माला-विभूषित गगन की छाया सघन रसाल-कानन में...
premchand

आहुति

'आहुति' - प्रेमचंद आनन्द ने गद्देदार कुर्सी पर बैठकर सिगार जलाते हुए कहा- आज विशम्भर ने कैसी हिमाकत की! इम्तहान करीब है और आप आज...
Bhuvaneshwar

आजादी: एक पत्र

'Azadi : Ek Patr', Hindi Kahani by Bhuvaneshwar वही मार्च का महीना फिर आ गया। आज शायद वही तारीख भी हो। पर मेरे लिखने का...
shivpujan sahay

कहानी का प्लॉट

(In collaboration with Acharya Shivpoojan Sahay Smarak Nyas) मैं कहानी-लेखक नहीं हूँ। कहानी लिखने-योग्य प्रतिभा भी मुझ में नहीं है। कहानी-लेखक को स्वभावतः कला-मर्मज्ञ होना...

STAY CONNECTED

32,392FansLike
11,518FollowersFollow
21,137FollowersFollow
661SubscribersSubscribe

Recent Posts

Kunwar Narayan

अबकी अगर लौटा तो

अबकी अगर लौटा तो बृहत्तर लौटूँगा चेहरे पर लगाए नोकदार मूँछें नहीं कमर में बाँधे लोहे की पूँछें नहीं जगह दूँगा साथ चल रहे लोगों को तरेरकर न देखूँगा...
Poonachi - Perumal Murugan

पेरुमल मुरुगन – ‘पूनाची’

पेरुमल मुरुगन के उपन्यास 'पूनाची' से उद्धरण | Quotes by Perumal Murugan from 'Poonachi'   "मैं इंसानों के बारे में लिखने के प्रति आशंकित रहता हूँ;...
Leeladhar Jagudi

अपने अन्दर से बाहर आ जाओ

हर चीज़ यहाँ किसी न किसी के अन्दर है हर भीतर जैसे बाहर के अन्दर है फैलकर भी सारा का सारा बाहर ब्रह्माण्ड के अन्दर है बाहर सुन्दर...
Dhoomil

पटकथा

जब मैं बाहर आया मेरे हाथों में एक कविता थी और दिमाग़ में आँतों का एक्स-रे। वह काला धब्बा कल तक एक शब्द था; ख़ून के अँधेर में दवा का ट्रेडमार्क बन गया...
Venu Gopal

मेरा वर्तमान

मैं फूल नहीं हो सका। बग़ीचों से घिरे रहने के बावजूद। उनकी हक़ीक़त जान लेने के बाद यह मुमकिन भी नहीं था। यों अनगिन फूल हैं वहाँ। लेकिन मुस्कुराता हुआ...
Kedarnath Agarwal

हमारी ज़िन्दगी

हमारी ज़िन्दगी के दिन, बड़े संघर्ष के दिन हैं। हमेशा काम करते हैं, मगर कम दाम मिलते हैं। प्रतिक्षण हम बुरे शासन, बुरे शोषण से पिसते हैं। अपढ़, अज्ञान, अधिकारों से वंचित...
Mannu Bhandari

सयानी बुआ

सब पर मानो बुआजी का व्यक्तित्व हावी है। सारा काम वहाँ इतनी व्यवस्था से होता जैसे सब मशीनें हों, जो क़ायदे में बँधीं, बिना...
Javed Akhtar

एक मोहरे का सफ़र

जब वो कम-उम्र ही था उसने ये जान लिया था कि अगर जीना है बड़ी चालाकी से जीना होगा आँख की आख़िरी हद तक है बिसात-ए-हस्ती और वो...
Kishwar Naheed

ग्लास लैंडस्केप

अभी सर्दी पोरों की पहचान के मौसम में है इससे पहले कि बर्फ़ मेरे दरवाज़े के आगे दीवार बन जाए तुम क़हवे की प्याली से उठती...
Paash

भारत

भारत— मेरे सम्मान का सबसे महान शब्द जहाँ कहीं भी प्रयोग किया जाए बाक़ी सभी शब्द अर्थहीन हो जाते हैं इस शब्द के अर्थ खेतों के उन बेटों में...
कॉपी नहीं, शेयर करें! ;-)