Tag: Metered Poems

Faiz Ahmad Faiz

दर्द आएगा दबे पाँव

और कुछ देर में जब फिर मेरे तन्हा दिल को फ़िक्र आ लेगी कि तन्हाई का क्या चारा करे दर्द आएगा दबे पाँव लिए सुर्ख़ चराग़ वो जो...
Dinkar

सिंहासन ख़ाली करो कि जनता आती है

सदियों की ठण्डी-बुझी राख सुगबुगा उठी मिट्टी सोने का ताज पहन इठलाती है, दो राह, समय के रथ का घर्घर-नाद सुनो सिंहासन ख़ाली करो कि जनता आती...
Dharmvir Bharati

थके हुए कलाकार से

सृजन की थकन भूल जा देवता अभी तो पड़ी है धरा अधबनी! अभी तो पलक में नहीं खिल सकी नवल कल्पना की मधुर चाँदनी, अभी अधखिली ज्योत्सना की...
Mohammad Alvi

घर

अब मैं घर में पाँव नहीं रखूँगा कभी घर की इक-इक चीज़ से मुझको नफ़रत है घर वाले सब के सब मेरे दुश्मन हैं जेल से मिलती-जुलती...
Ramkumar Krishak

हम नहीं खाते, हमें बाज़ार खाता है

हम नहीं खाते, हमें बाज़ार खाता है आजकल अपना यही चीज़ों से नाता है पेट काटा, हो गई ख़ासी बचत घर में है कहाँ चेहरा, मुखौटा मुस्कुराता है नाम...
Village, Farmer

गूँजे कूक प्यार की

जिस बरगद की छाँव तले रहता था मेरा गाँव वह बरगद ख़ुद घूम रहा अब नंगे-नंगे पाँव। रात-रात भर इस बरगद से क़िस्से सुनते थे गली, द्वार, बाड़े...
Kaifi Azmi

नज़राना

तुम परेशान न हो, बाब-ए-करम वा न करो और कुछ देर पुकारूँगा, चला जाऊँगा उसी कूचे में जहाँ चाँद उगा करते हैं शब-ए-तारीक गुज़ारूँगा, चला जाऊँगा रास्ता भूल...
Makhdoom Mohiuddin

फिर छिड़ी रात बात फूलों की

फिर छिड़ी रात बात फूलों की रात है या बरात फूलों की फूल के हार, फूल के गजरे शाम फूलों की, रात फूलों की आप का साथ, साथ...
Ramdhari Singh Dinkar

तुम क्यों लिखते हो

तुम क्यों लिखते हो? क्या अपने अन्तरतम को औरों के अन्तरतम के साथ मिलाने को? अथवा शब्दों की तह पर पोशाक पहन जग की आँखों से अपना रूप...
Habib Jalib

उट्ठो, मरने का हक़ इस्तेमाल करो

जीने का हक़ सामराज ने छीन लिया उट्ठो, मरने का हक़ इस्तेमाल करो! ज़िल्लत के जीने से मरना बेहतर है मिट जाओ या क़स्र-ए-सितम पामाल करो! सामराज के...
Trilochan

गाओ

मेरे उर के तार बजाकर जब जी चाहा तुमने गाया गीत। मौन मैं सुनने वाला कृपापात्र हूँ सदा तुम्हारा, चुनने वाला स्वर-सुमनों का। भीड़ भरा है, जो...
Agyeya

घृणा का गान

सुनो, तुम्हें ललकार रहा हूँ, सुनो घृणा का गान! तुम, जो भाई को अछूत कह वस्त्र बचाकर भागे तुम, जो बहिनें छोड़ बिलखती, बढ़े जा रहे...

STAY CONNECTED

35,734FansLike
15,378FollowersFollow
22,311FollowersFollow
921SubscribersSubscribe

RECENT POSTS

Sahir Ludhianvi

ये दुनिया दो-रंगी है

ये दुनिया दो-रंगी है एक तरफ़ से रेशम ओढ़े, एक तरफ़ से नंगी है एक तरफ़ अंधी दौलत की पागल ऐश-परस्ती एक तरफ़ जिस्मों की क़ीमत रोटी...
Harry Potter - Voldemort

सपने में वॉल्डेमॉर्ट

आप जानते हैं रॉल्फ़ फ़ाइंस को? "तुम जानते हो कौन... वो, जिसका नाम नहीं लिया जाना चाहिए!" हाँ वही, जो वॉल्डेमॉर्ट बने थे हैरी पॉटर में जिसे देख काँप उठती थी बच्चों...
Bolna Hi Hai - Ravish Kumar

रवीश कुमार – ‘बोलना ही है’

रवीश कुमार की किताब 'बोलना ही है' से उद्धरण | Quotes from 'Bolna Hi Hai' (The Free Voice), a book by Ravish Kumar (चयन एवं...
Rahul Boyal

मैं शब्द खो दूँगा एक दिन

मैं शब्द खो दूँगा एक दिन एक दिन भाषा भी चुक जाएगी मेरी मैं बस सुना करूँगा तुम्हें कहूँगा कुछ नहीं जबकि याद आएगी तुम्हारी हो जाऊँगा बरी अपने आप से तुम भी...
Abstract painting, Woman

मैं अंततः वहीं मुड़ जाऊँगी

अभी किसी नाम से न पुकारना तुम मुझे पलटकर देखूँगी नहीं, हर नाम की एक पहचान है पहचान का एक इतिहास और हर इतिहास कहीं न कहीं रक्त...
Arun Prakash

नहान

मैं जब उस मकान में नया पड़ोसी बना तो मकान मालिक ने हिदायत दी थी—"बस तुम नहान से बचकर रहना। उसके मुँह नहीं लगना।...
Suhag Ke Nupur - Amritlal Nagar

किताब अंश: ‘सुहाग के नुपूर’ – अमृतलाल नागर

हिन्दी के मशहूर साहित्यकार अमृतलाल नागर का जन्म 17 अगस्त 1916 को हुआ था। उन्होंने नाटक, रेडियोनाटक, रिपोर्ताज, निबन्ध, संस्मरण, अनुवाद, बाल साहित्य आदि...
Rajesh Joshi

अन्धेरे के बारे में कुछ वाक्य

अन्धेरे में सबसे बड़ी दिक़्क़त यह थी कि वह किताब पढ़ना नामुमकिन बना देता था। पता नहीं शरारतन ऐसा करता था या किताब से डरता था उसके मन...
Abstract, Love, Couple

कितनी कम जगहें हैं प्रेम के लिए

कितना तो सहज होता है मौसम का यूँ ही मीठा हो जाना शेफालियों का अनायास झर जाना बारिशों का सोंधा हो जाना भर जाना आकाश का सम्भावनाओं से और...
Naseer Turabi

मिलने की तरह मुझसे वो पल भर नहीं मिलता

मिलने की तरह मुझसे वो पल भर नहीं मिलता दिल उससे मिला जिससे मुक़द्दर नहीं मिलता ये राह-ए-तमन्ना है, यहाँ देख के चलना इस राह में सर...
कॉपी नहीं, शेयर करें! ;-)