Tag: Old Age

Devesh Path Sariya

प्रेम को झुर्रियाँ नहीं आतीं

बुढ़िया ने गोद में रखा अपने बुड्ढे का सिर और मालिश करने लगी सिर के उस हिस्से में भी जहाँ से बरसों पहले विदा ले चुके थे बालदोनों को...
Old man talking

सीनियर सिटिज़न उर्फ़ सिक्सटी प्लसजी

अब तो करवा लो बीमा। महँगा नहीं है। टीवी पर इंश्योरेंस वाले भाईसाहब दिन-भर अपनत्व भरा उलाहना देते रहते हैं। ड्राइंगरूम के काउच पर...
Priyamvad

पलंग

उस साल जब पलाश की नंगी छितरी शाखों पर पहला फूल खिला, तब माँ पूरी तरह स्वस्थ थी। जब पूरा पेड़ दहकता जंगल बन...
Old age, Loneliness, Room, Woman

बीना अम्मा के नाम

दिन के दूसरे पहर जब सो चुका होता दुआरे का शमी महुए थक जाते किसी बिसाती की बाट जोहते हुए पोखरे का पानी ठहर जाता गरड़िये के...
Javed Akhtar

मेले

बाप की उँगली थामे इक नन्हा-सा बच्चा पहले-पहल मेले में गया तो अपनी भोली-भाली कंचों जैसी आँखों से इक दुनिया देखी ये क्या है और वो क्या है सब उसने पूछा बाप...
Nirmal Gupt

रेहन पर बीमार बूढ़ा

बीमार बूढ़े के दोनों पैर बंधे हैं अस्पताल के पलंग से इलाज का बिल चुकाए बिना कहीं वह देह से फ़रार न हो जाए हाथ उसके...
Harivansh Rai Bachchan

तीसरा हाथ

एक दिन कातर हृदय से, करुण स्वर से, और उससे भी अधिक डब-डब दृगों से, था कहा मैंने कि मेरा हाथ पकड़ो क्योंकि जीवन पन्थ के अब कष्ट एकाकी नहीं जाते सहेऔर तुम भी...
Old Woman

दादी माँ

'Dadi Maa', a poem by Kailash Manharसीलन भरी कोठरी के अँधेरे कोने में कुछ चिथड़े बिखरे हैं लाल, पीले, काले, सफ़ेद सादे और फूलोंदार घाघरे लूगड़ी और सूती धोतियाँ पेटीकोटकुछ अपने...
Old woman, Old age

उम्र के साथ-साथ

'Umr Ke Sath Sath', a poem by Nirmal Guptउम्र चेहरे तक आ पहुँची कण्ठ में भी शायद जिह्वा पर अम्ल बरक़रार है शेष है अभी भी हथेलियों...
Old Man with tea, Old Age

साठ पार का आदमी

'Saath Paar Ka Aadmi', a poem by Nirmal Guptसाठ पार के आदमी को घुटने मोड़ कर चारपाई पर बैठे रहना चाहिए उठते-बैठते हर बार ज़ोर से कराहना...
Maya Angelou

मुझे मत दिखाना अपनी दया

'On Aging', a poem by Maya Angelou, from 'And Still I Rise' अनुवाद: अनुराग तिवारीजब तुम मुझे ऐसे शांत बैठे देखोगे जैसे अलमारी में छूटा कोई...
Old Man with tea, Old Age

चाय की दुकान और बूढ़ा

नुक्कड़ वाली चाय की दुकान में, सुबह, मुँह अँधेरे ही आ जाती है जब एक बीमार बूढ़ा वहाँ चला आता है अपने पाँव घसीटता। एक ठण्डी रात में से गुज़रकर ज़िन्दा...

STAY CONNECTED

42,501FansLike
20,941FollowersFollow
29,149FollowersFollow
1,990SubscribersSubscribe

RECENT POSTS

Chen Chien-wu

चेन च्येन वू की कविताएँ

ताइवान के नांताऊ शहर में सन् 1927 में जन्मे कवि चेन च्येन वू मंदारिन, जापानी और कोरियाई भाषाओं में पारंगत कवि हैं। अपने कई...
Ekaterina Grigorova

बुल्गारियाई कवयित्री एकैटरीना ग्रिगरोवा की कविताएँ

अनुवाद: पंखुरी सिन्हा सामान्यता मुझे बाल्टिक समुद्र का भूरा पानी याद है! 16 डिग्री तापमान की अनंत ऊर्जा का भीतरी अनुशासन!बदसूरत-सी एक चीख़ निकालती है पेट्रा और उड़ जाता है आकाश में बत्तखों...
Naomi Shihab Nye

नेओमी शिहैब नाय की कविता ‘जो नहीं बदलता, उसे पहचानने की कोशिश’

नेओमी शिहैब नाय (Naomi Shihab Nye) का जन्म सेंट लुइस, मिसौरी में हुआ था। उनके पिता एक फ़िलिस्तीनी शरणार्थी थे और उनकी माँ जर्मन...
Vinita Agrawal

विनीता अग्रवाल की कविताएँ

विनीता अग्रवाल बहुचर्चित कवियित्री और सम्पादक हैं। उसावा लिटरेरी रिव्यू के सम्पादक मण्डल की सदस्य विनीता अग्रवाल के चार काव्य संग्रह प्रकाशित हो चुके...
Gaurav Bharti

कविताएँ: अगस्त 2022

विस्मृति से पहले मेरी हथेली को कैनवास समझ जब बनाती हो तुम उस पर चिड़िया मुझे लगता है तुमने ख़ुद को उकेरा है अपने अनभ्यस्त हाथों से।चारदीवारी और एक...
Nicoleta Crăete

रोमानियाई कवयित्री निकोलेटा क्रेट की कविताएँ

अनुवाद: पंखुरी सिन्हा औंधा पड़ा सपना प्यार दरअसल फाँसी का पुराना तख़्ता है, जहाँ हम सोते हैं! और जहाँ से हमारी नींद, देखना चाह रही होती है चिड़ियों की ओर!मत...
Daisy Rockwell - Geetanjali Shree

डेज़ी रॉकवेल के इंटरव्यू के अंश

लेखक ने अपनी बात कहने के लिए अपनी भाषा रची है, इसलिए इसका अनुवाद करने के लिए आपको भी अपनी भाषा गढ़नी होगी। —डेज़ी...
Kalam Ka Sipahi - Premchand Jeevani - Amrit Rai

पुस्तक अंश: प्रेमचंद : कलम का सिपाही

भारत के महान साहित्यकार, हिन्दी लेखक और उर्दू उपन्यासकार प्रेमचंद किसी परिचय के मोहताज नहीं हैं। प्रेमचंद ने अपने जीवन काल में कई रचनाएँ...
Priya Sarukkai Chabria

प्रिया सारुकाय छाबड़िया की कविताएँ

प्रिया सारुकाय छाबड़िया एक पुरस्कृत कवयित्री, लेखिका और अनुवादक हैं। इनके चार कविता संग्रह प्रकाशित हो चुके हैं जिनमें नवीनतम 'सिंग ऑफ़ लाइफ़ रिवीज़निंग...
aadhe adhoore mohan rakesh

आधे-अधूरे : एक सम्पूर्ण नाटक

आधे-अधूरे: एक सम्पूर्ण नाटक समीक्षा: अनूप कुमार मोहन राकेश (1925-1972) ने तीन नाटकों की रचना की है— 'आषाढ़ का एक दिन' (1958), 'लहरों के राजहंस' (1963)...
कॉपी नहीं, शेयर करें! ;)