Tag: Pratibha Sharma

Pratibha Sharma

लाल रिबन

मेरे गाँव में सफ़ेद संगमरमर से बनी दीवारें लोहे के भालों की तरह उगी हुई हैं जिनकी नुकीली नोकों में नीला ज़हर रंगा हुआ है खेजड़ी के ईंट-चूने...
Pratibha Sharma

प्रेम का अबेकस (तीसरा भाग)

1 लड़कियाँ अपने प्रति क्रूर होती हैं बहुत क्रूर लड़कियाँ नाज़ुक हैं और उनकी प्रतिज्ञा भी नाज़ुक है इतनी आसानी से टूट जाती है सूखी फोग की टहनी की तरह पत्थरों...
Earth Woman

प्रेम का अबेकस (दूसरा भाग)

1 प्रेम से क्रोध तक आग से आश्रय तक विश्वास करने के विपरीत क्या है? उसके लायक़ भी कुछ नही जैसे चाँदी की एक शानदार सुई चमकती है सफ़ेद परिधि में प्रेम...
Maun Sonchiri - Pratibha Sharma

प्रेम का अबेकस

1 प्रेम को खोने के बाद सबसे मुश्किल है कैलेण्डर पर वर्ष गिनना और तारीख़ों के दिन दोहराना यह ऐसा है जैसे समय की आइसक्रीम में से स्कूप...
Labours

आइसोलेशन के अन्तिम पृष्ठ

आइसोलेशन के अन्तिम पृष्ठ (श्रमिक) अप्रैल के नंगे-नीले दरख़्तों और टहनियों से प्रक्षालित ओ विस्तृत आकाश! अपने प्रकाश के चाकुओं से मुझ पर नक़्क़ाशी करो... सम्बोधन हे! अरे! 1 हम अपनी कल्पनाओं में छोटी-छोटी...
Girl, Rose

आइसोलेशन में प्रेमिकाएँ

पेड़, नदी, पहाड़ और झरने प्रेमिकाएँ उन सबसे लेती हैं उधार एक-एक कटोरी प्रीत और करघे की खच-खच में बहाती हुई अपनी निर्झरिणी वे बुन डालती हैं एक ख़ूबसूरत कालीन जिसमें मौजूद...
Maun Sonchiri - Pratibha Sharma

‘मौन-सोनचिरी’ से कविताएँ

काव्य-संग्रह 'मौन-सोनचिरी' से प्रतिभा शर्मा की कविताएँ अमृता! हम नहीं हैं तृप्ताएँ आज फिर 'नौ सपने' पढ़े जैसे एक तीर्थ कर लिया वो अकेले हंस का धवल पँख अभी भी हिल...

STAY CONNECTED

34,951FansLike
14,116FollowersFollow
22,311FollowersFollow
827SubscribersSubscribe

Recent Posts

Nirmala Putul

बाहामुनी

तुम्हारे हाथों बने पत्तल पर भरते हैं पेट हज़ारों पर हज़ारों पत्तल भर नहीं पाते तुम्हारा पेट कैसी विडम्बना है कि ज़मीन पर बैठ बुनती हो चटाइयाँ और...
Nand Kishore Acharya

ओछा है मेरा प्यार

कितना अकेला कर देगा मेरा प्यार तुमको एक दिन अकेला और सन्तप्त अपनी समूची देह से मुझे सोचती हुईं तुम जब मुस्कुराओगी—औपचारिक! प्यार मैं तुम्हें तब भी करता रहूँगा शायद...
Om Prakash Valmiki

युग-चेतना

मैंने दुःख झेले सहे कष्‍ट पीढ़ी-दर-पीढ़ी इतने फिर भी देख नहीं पाए तुम मेरे उत्‍पीड़न को इसलिए युग समूचा लगता है पाखण्डी मुझको। इतिहास यहाँ नक़ली है मर्यादाएँ सब झूठी हत्‍यारों की रक्‍तरंजित...
Birds, Couple

‘चलो’—कहो एक बार

'चलो' कहो एक बार अभी ही चलूँगी मैं— एक बार कहो! सुना तब 'हज़ार बार चलो' सुना— आँखें नम हुईं और माथा उठ आया। बालू ही बालू में खुले पैर, बंधे हाथ चांदी की जाली...
Qurratulain Hyder

पतझड़ की आवाज़

अनुवाद: शम्भु यादव सुबह मैं गली के दरवाज़े में खड़ी सब्ज़ीवाले से गोभी की क़ीमत पर झगड़ रही थी। ऊपर रसोईघर में दाल-चावल उबालने के...
Faiz Ahmad Faiz

पास रहो

तुम मेरे पास रहो मेरे क़ातिल, मेरे दिलदार, मेरे पास रहो जिस घड़ी रात चले, आसमानों का लहू पी के सियह रात चले मरहम-ए-मुश्क लिए, नश्तर-ए-अल्मास लिए बैन करती हुई, हँसती...
Swayam Prakash

पिताजी का समय

अपने घर में मैं परम स्वतंत्र था। जैसे चाहे रहता, जो चाहे करता। मर्ज़ी आती जहाँ जूते फेंक देता, मन करता जहाँ कपड़े। जगह-जगह...
Neem Tree

तेरे वाला हरा

चकमक, जनवरी 2021 अंक से कविता: सुशील शुक्ल  नीम तेरी डाल अनोखी है लहर-लहर लहराए शोखी है नीम तेरे पत्ते बाँके हैं किसने तराशे किसने टाँके हैं नीम तेरे फूल बहुत झीने भीनी ख़ुशबू शक्ल से पश्मीने नीम...
Saadat Hasan Manto

चोर

मुझे बेशुमार लोगों का क़र्ज़ अदा करना था और ये सब शराबनोशी की बदौलत था। रात को जब मैं सोने के लिए चारपाई पर...
God, Abstract Human

होने की सुगन्ध

यही तो घर नहीं और भी रहता हूँ जहाँ-जहाँ जाता हूँ, रह जाता हूँ जहाँ-जहाँ से आता हूँ, कुछ रहना छोड़ आता हूँ जहाँ सदेह गया नहीं वहाँ...
कॉपी नहीं, शेयर करें! ;-)