Tag: Protest

Fist, Protest, Dissent

वो घर तक आएँगे

सरेंडर-मार्च कराया जाए लोकतंत्र माई लार्ड न्याय की शर्त लगाएँ जब वर्दी हाँक रही संविधान लहराती मुठ्ठियाँ नहीं चलेंगी। चश्मे नहीं उतरने चाहिए आँख नहीं मींची जाएँ इस रात का अवसान...
Fist, Protest, Dissent

अंकित कुमार भगत की कविताएँ

Poems: Ankit Kumar Bhagat प्रतिरोध काले गुलाब और स्याह परछाइयों के बाद, कालिख पुती दीवारें इस दौर की विशेषताएँ हैं। अँधेरा गहराता ही जाता है, कि असहमतियों को आज़माने की इजाज़त नहीं यहाँ। विद्रोह...
saadat hasan manto

तमाशा

यह कहानी यहाँ सुनें: https://youtu.be/lyNTqM0DU6g दो-तीन रोज़ से हवाई जहाज़ स्याह उकाबों की तरह पर फैलाए खामोश फ़िज़ा में मँडरा रहे थे, जैसे वे किसी शिकार...
Arrow, Baan, Archery

एकलव्य का कटा अँगूठा

'Eklavya Ka Kata Angootha', a poem by Alok Azad वो जो हर बार तुम्हारे न्यायालय की दीवारों पर आज़ादी लिखने आता है वो जो सड़कों पर मुट्ठी को भींच इंक़लाब के...
Common Man

अम्बिकेश कुमार की कविताएँ

Poems: Ambikesh Kumar विकल्प उसने खाना माँगा उसे थमा दिया गया मानवविकास सूचकाँक उसने छत माँगी हज़ारों चुप्पियों के बाद उसे दिया गया एक पूरा लम्बा भाषण उसने वस्त्र माँगा मेहनताना उसे...
Yogesh Mishra

बाज़

योगेश मिश्रा की कविता 'बाज़' | 'Baaz', a poem by Yogesh Mishra एक बाज़ ने कब्ज़ाया है एक गाँव जिसे बसाया था चिड़ियों ने जिसमें रहते थे...
Fist, Protest, Dissent

टूटता तिलिस्म

'Tootata Tilism', a poem by Pranjal Rai संवादों के दौरान अक्सर अधूरे रह जाते हैं कुछ प्रश्न, कि प्रश्नों का अधूरा रह जाना कितना ज़रूरी है एक...
Miya Poetry

लिखो, मैं मियाँ हूँ!

'मियाँ पोएट्री' असम में मुसलमान कवियों के द्वारा 'मिया' बोली में लिखी गयी कविताएँ हैं, जो उनके साथ होते आए सामाजिक भेदभाव को दर्ज करती...
Kaushal Kishore

चिड़िया और आदमी

चिड़ियों को मारा गया इसलिए कि उनके पंखों के पास था विस्तृत आसमान नीचे घूमती हुई पृथ्वी और वे इन सबको लांघ जाना चाहती थीं आदमियों को मारा गया इसलिए कि वे...

STAY CONNECTED

32,144FansLike
10,637FollowersFollow
20,684FollowersFollow
620SubscribersSubscribe

Recent Posts

Faiz Ahmad Faiz

इस वक़्त तो यूँ लगता है

इस वक़्त तो यूँ लगता है, अब कुछ भी नहीं है महताब न सूरज, न अँधेरा न सवेरा आँखों के दरीचों पे किसी हुस्न की चिलमन और...
Bheedtantra - Asghar Wajahat

‘भीड़तंत्र’ से दो लघु कहानियाँ

राजपाल एण्ड सन्ज़ से प्रकाशित असग़र वजाहत की किताब 'भीड़तंत्र' से साभार स्वार्थ का फाटक —“हिंसा का रास्ता कहाँ से शुरू होता है?” —“जहाँ से बातचीत का...
Pratibha Sharma

लाल रिबन

मेरे गाँव में सफ़ेद संगमरमर से बनी दीवारें लोहे के भालों की तरह उगी हुई हैं जिनकी नुकीली नोकों में नीला ज़हर रंगा हुआ है खेजड़ी के ईंट-चूने...
Subhadra Kumari Chauhan

यह कदम्ब का पेड़

यह कदम्ब का पेड़ | Yah Kadamb Ka Ped यह कदम्ब का पेड़ अगर माँ होता यमुना तीरे। मैं भी उस पर बैठ कन्हैया बनता धीरे-धीरे॥ ले...
Sleepless, Person sitting

यह स्त्री सोयी नहीं है

बहुत अर्से से यह स्त्री सोयी नहीं है उसकी आँखों के नीचे पड़े काले घेरे इसका प्रमाण हैं समस्त सृष्टि को अपने आग़ोश में लेकर उसे विश्राम दिलाने का दावा करती रात्रि का...
Trilochan

तुम्हें जब मैंने देखा

पहले पहल तुम्हें जब मैंने देखा सोचा था इससे पहले ही सबसे पहले क्यों न तुम्हीं को देखा! अब तक दृष्टि खोजती क्या थी, कौन रूप, क्या रंग देखने को उड़ती थी ज्योति-पंख...
Amir Khusrow

अमीर ख़ुसरो के दोहे

अमीर ख़ुसरो के दोहे | Amir Khusro Ke Dohe ख़ुसरो रैन सुहाग की, जागी पी के संग। तन मेरो मन पियो को, दोउ भए एक रंग॥ ख़ुसरो...
Meena Keshwar Kamal

मैं कभी पीछे नहीं लौटूँगी

मैं वह औरत हूँ जो जाग उठी है अपने भस्‍म कर दिए गए बच्‍चों की राख से मैं उठ खड़ी हुई हूँ और बन गयी हूँ एक...
Dinkar

अवकाश वाली सभ्यता

मैं रात के अँधेरे में सितारों की ओर देखता हूँ जिनकी रोशनी भविष्य की ओर जाती है अनागत से मुझे यह ख़बर आती है कि चाहे लाख बदल...
Madan Daga

रेखांकित हक़ीक़त

किसने कह दिया तुम्हें कि मैं कविता लिखता हूँ मैं कविता नहीं लिखता मैंने तो सिर्फ़ जन-मन के दर्द के नीचे एक रेखा खींच दी है हाँ, दर्द के नीचे फ़क़त...
कॉपी नहीं, शेयर करें! ;-)