Tag: quotes

Dharmasthal - Priyamvad

प्रियम्वद – ‘धर्मस्थल’

प्रियम्वद की किताब 'धर्मस्थल' से उद्धरण | Hindi Quotes by 'Dharmasthal', a book by Priyamvad संकलन: विजय शर्मा   "रचना के संसार में जब तुम कुछ नया...
Ghumakkad Shastra

राहुल सांकृत्यायन – ‘घुमक्कड़ शास्त्र’

राहुल सांकृत्यायन की किताब 'घुमक्कड़ शास्त्र' से उद्धरण | Quotes from Ghumakkad Shastra, a book by Rahul Sankrityayan चयन: पुनीत कुसुम "वैसे तो गीता को बहुत...
Godan

प्रेमचंद – ‘गोदान’

प्रेमचंद के उपन्यास 'गोदान' से उद्धरण | Quotes from Godan by Premchand   "लिखते तो वह लोग हैं, जिनके अंदर कुछ दर्द है, अनुराग है, लगन...
Gunahon Ka Devta - Dharmvir Bharti

धर्मवीर भारती – ‘गुनाहों का देवता’

धर्मवीर भारती के उपन्यास 'गुनाहों का देवता' से उद्धरण | Quotes from 'Gunahon Ka Devta', a novel by Dharmvir Bharti   "सचमुच लगता है कि प्रयाग...
Akkarmashi

शरणकुमार लिम्बाले – ‘अक्करमाशी’

शरणकुमार लिम्बाले की आत्मकथा 'अक्करमाशी' से उद्धरण | Quotes from 'Akkarmashi' , an autobiography by Sharan Kumar Limbale   "आत्मकथा का अर्थ जो जीवन जीया है,...
The God of Small Things

अरुंधति रॉय – ‘मामूली चीज़ों का देवता’ [The God of Small Things]

अरुंधति रॉय के हिन्दी उद्धरण | Quotes in Hindi by Arundhati Roy किताब: 'मामूली चीज़ों का देवता' लेखिका: अरुंधति रॉय अनुवाद: नीलाभ प्रकाशक: राजकमल प्रकाशन चयन: पुनीत कुसुम   "उसके...
Murdahiya - Tulsiram

तुलसीराम: ‘मुर्दहिया’ व ‘मणिकर्णिका’

मुर्दहिया "हम अंजुरी मुँह से लगाए झुके रहते, और वे बहुत ऊपर से चबूतरे पर खड़े-खड़े पानी गिराते। वे पानी बहुत कम पिलाते थे किंतु...
Topi Shukla - Rahi Masoom Raza

राही मासूम रज़ा – ‘टोपी शुक्ला’

प्रस्तुति: पुनीत कुसुम   "मुझे यह उपन्यास लिखकर कोई ख़ुशी नहीं हुई।"   "समय के सिवा कोई इस लायक़ नहीं होता कि उसे किसी कहानी का हीरो बनाया...
B R Ambedkar

भीमराव आम्बेडकर

"शिक्षित रहें, संगठित रहें, आन्दोलित रहें!"   "जीवन लम्बा होने के बजाय महान होना चाहिए।"   "पति और पत्नी के बीच घनिष्ठ मित्रों जैसा सम्बन्ध होना चाहिए।"   "हम सर्वप्रथम,...
Buddha

हरमन हेस – ‘सिद्धार्थ’

हरमन हेस की किताब 'सिद्धार्थ' से उद्धरण | Quotes from 'Siddhartha', a book by Hermann Hesse   "ज्ञान का सबसे बड़ा शत्रु ज्ञानी पुरुष के सिवा,...
Manohar Shyam Joshi

मनोहर श्याम जोशी

मनोहर श्याम जोशी के उद्धरण | Manohar Shyam Joshi Quotes   "प्यार होता है तो पहली ही नज़र में पूरी तरह हो जाता है। दूसरी नज़र...
premchand

प्रेमचंद

प्रेमचंद के उद्धरण | Premchand Quotes in Hindi 'लांछन' से- "कौन है, जो अपने अतीत को किसी भयंकर जंतु के समान कटघरों में बंद करके न...

STAY CONNECTED

32,392FansLike
10,637FollowersFollow
20,786FollowersFollow
641SubscribersSubscribe

Recent Posts

Ramkumar Krishak

हम नहीं खाते, हमें बाज़ार खाता है

हम नहीं खाते, हमें बाज़ार खाता है आजकल अपना यही चीज़ों से नाता है पेट काटा, हो गई ख़ासी बचत घर में है कहाँ चेहरा, मुखौटा मुस्कुराता है नाम...
Majrooh Sultanpuri

मैं अकेला ही चला था जानिब-ए-मंज़िल मगर

जब हुआ इरफ़ाँ तो ग़म आराम-ए-जाँ बनता गया सोज़-ए-जानाँ दिल में सोज़-ए-दीगराँ बनता गया रफ़्ता रफ़्ता मुंक़लिब होती गई रस्म-ए-चमन धीरे धीरे नग़्मा-ए-दिल भी फ़ुग़ाँ बनता गया मैं...
Pravad Parv - Naresh Mehta

प्रतिइतिहास और निर्णय

कविता अंश: प्रवाद पर्व महानुभावो! उस अनाम साधारण जन के तर्जनी उठाने में सम्भव है कोई औचित्य न हो परन्तु चूँकि वह तर्जनी अकेली है अतः उसकी सत्यता पर सन्देह भी स्वाभाविक...
Naresh Saxena

इस बारिश में

जिसके पास चली गई मेरी ज़मीन उसी के पास अब मेरी बारिश भी चली गई अब जो घिरती हैं काली घटाएँ उसी के लिए घिरती हैं कूकती हैं कोयलें...
Arvind Yadav

अरविन्द यादव की कविताएँ

गिद्ध आज अचानक मेरे शहर में दिखायी देने लगे झुण्ड के झुण्ड गिद्धों के देखते ही देखते शहर के हृदय पर एक बडे़ मैदान में होने लगा एक विशाल सभा...
Sahej Aziz

बंटू / दो हज़ार पचानवे

उसने शायद खाना नहीं खाया था। रोज़ तो सो जाता था दुबक के फैल के रेल प्लेटफ़ॉर्म पे बेंच के नीचे। क्यों सता रहा है आज उसे बारिश का शोर गीली चड्ढी और...
Sahej Aziz

नींद क्यों रात-भर नहीं आती

रात को सोना कितना मुश्किल काम है दिन में जागने जैसा भी मुश्किल नहीं पर, लेकिन तक़रीबन उतना ही न कोई पत्थर तोड़ा दिन-भर न ईंट के भट्ठे में...
Sahej Aziz

क्रांति: दो हज़ार पचानवे

हा हा हा हा हा हा यह भी कैसा साल है मैं ज़िंदा तो हूँ नहीं पर पढ़ रहा है मुझको कोई सोच रहा है कैसे मैंने सोचा है तब...
Sarveshwar Dayal Saxena

देशगान

क्या ग़ज़ब का देश है, यह क्या ग़ज़ब का देश है। बिन अदालत औ मुवक्किल के मुक़दमा पेश है। आँख में दरिया है सबके दिल में है...
Balamani Amma

माँ भी कुछ नहीं जानती

"बतलाओ माँ मुझे बतलाओ कहाँ से, आ पहुँची यह छोटी-सी बच्ची?" अपनी अनुजाता को परसते-सहलाते हुए मेरा पुत्र पूछ रहा था मुझसे; यह पुराना सवाल जिसे हज़ारों लोगों ने पहले भी बार-बार पूछा है। प्रश्न...
कॉपी नहीं, शेयर करें! ;-)